ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर पर सऊदी अरब और ईरान ने दिया पाकिस्तान को करारा झटका

जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान अकसर प्रोपेगैंडा फैलाने की कोशिश करता है लेकिन अब उसे मुस्लिम देशों से भी ठोकर ही मिलती है। वह ईरान और सऊदी अरब में एक कार्यक्रम करना चाहता था लेकिन दोनों ही देशों ने पाक को अनुमति नहीं दी।

Imran khan, pakistan, jammu kashmirtसऊदी अरब और ईरान ने पाकिस्तान को दिया करारा झटका। (तस्वीर- पीटीआई से)

जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान दुनियाभर में प्रोपैगैंडा फैलाने की कोशिश कर चुका है लेकिन हर मोर्च पर उसे मुंह की खानी पड़ी। अब सऊदी अरब और ईरान ने भी इसे करारा झटका दिया है। दरअसल 27 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर को लेकर एक पब्लिक इवेंट करना चाहता था और इसे काला दिन के रूप में मनाना चाहता था। ईरान में पाकिस्तानी दूतावास तेहरान यूनिवर्सिटी में कार्यक्रम करना चाहता था लेकिन तेहरान ने झटका दे दिया। उसने ऐसे किसी कार्यक्रम की अनुमति ही नहीं दी।

बाद में पाक दूतावास ने एक वेबिनार करके काम चलाया। कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने को लेकर पाकिस्तान चिढ़ा रहता है लेकिन हर बार ठोकर के अलावा कुछ हाथ नहीं लगता। भारत पहले ही यूएन में कह चुका है कि यह भारत का अंदरूनी मामला है और किसी बाहरी को हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं है।

पाकिस्तान सऊदी अरब के रियाद में भी इसी तरह के कार्यक्रम की योजना बनाई थी लेकिन उसपर भी रोक लगा दी गई। ये दोनों ही बातें मध्य एशिया में पाकिस्तान के बिगड़ते समीकरणों की तरफ संकेत कर रही हैं। इसी महीने फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स प्लेनरी सेशन में भी पाकिस्तान की औकात सामने आ गई है। 39 सदस्यों में से केवल अंकारा ने ही पाकिस्तान का साथ दिया था। वह अब भी एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में है।

दरअसल पाकिस्तानी पीएम इमरान खान और तुर्की मिलकर एक नया कट्टरपंथी इस्लामिक ऐक्सिस बनाने की कोशिश में है जो कि सऊदी अरब के सुन्नी संगठनों और अरब के शिया संगठनों के खिलाफ है। इस नई धुरी में मलेशिया भी शामिल है। इजरायल के साथ रणनीतिक संबंध बनाकर वह भी यूएई का विरोध कर रहा है। पाकिस्तान तो अभी चुपचाप नई धुरी की तरफ शिफ्ट हो रहा है लेकिन तुर्की खुलेआम ऐलान कर चुका है और उसने यूएई के साथ संबंध खत्म कर लिए हैं।

पाकिस्तान को तब भी बहुत शर्मिंदा होना पड़ा था जब उसके विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सऊदी अरब के अपने समकक्ष से मुलाकात की और जम्मू-कश्मीर पर बात की। इसके तुरंत बाद ही सऊदी ने पाकिस्तान से 3 अरब डॉलर का लोन वापस मांग लिया। इसके बाद पाकिस्तान को रियाद तो शांत करने के लिए अपने आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा को भेजना पड़ा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दवा कंपनी Pfizer ने इसी साल किया कोरोना वैक्सीन लाने का दावा, आएंगी 4 करोड़ डोज
2 भारतीय मछुआरों पर श्रीलंकाई नौसेना का हमला, एक जख्मी
3 पाकिस्तानः पेशावर के मदरसे में धमाका! 7 की मौत, 70 से अधिक जख्मी
यह पढ़ा क्या?
X