ताज़ा खबर
 

बातचीत जारी रखनी है तो आतंकवाद पर अंकुश लगाए पाकिस्तान : गौड़ा

अगर पाकिस्तान भारत के साथ बातचीत जारी रखना चाहता है, तो उसे अपनी धरती से जारी आतंकवादी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए कदम उठाने होंगे..

Author कडप्पा (आंध्र प्रदेश) | January 8, 2016 10:55 PM
Sadananda Gowda, Sadananda Gowda News, Sadananda Gowda Law Minister, Law Minister High Courtकेंद्रीय कानून एवं न्याय मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा (फाइल फोटो)

केंद्रीय कानून एवं न्याय मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा ने शुक्रवार कहा कि अगर पाकिस्तान भारत के साथ बातचीत जारी रखना चाहता है, तो उसे अपनी धरती से जारी आतंकवादी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए कदम उठाने होंगे। यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए गौड़ा ने कहा, ‘अब गेंद पाकिस्तान के पाले में है। द्विपक्षीय वार्ता को जारी रखने के लिए पाकिस्तान को सकारात्मक प्रतिक्रिया देनी होगी। अगर पाकिस्तान बातचीत जारी रखना चाहता है तो उसे अपनी धरती से चलाई जा रही आतंकवादी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए कदम उठाने होंगे, जो हमारे देश को नुकसान पहुंचा रही हैं।’

उन्होंने जोर देकर कहा, ‘भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पाकिस्तान के साथ अच्छे ताल्लुकात बनाए रखने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रहे हंै और उप-महाद्वीप में शांति बनाए रखने के वास्ते द्विपक्षीय बातचीत को आगे बढ़ाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।’

पठानकोट वायुसेना स्टेशन पर आतंकी हमले से प्रभावी तरीके से निपटने में सैनिकों, कमांडोज और खुफिया अधिकारियों की सराहना करते हुए उन्होंने आतंकवादियों से लड़ते समय शहीद होने वाले लोगों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि खुफिया विभाग की सूचना के आधार पर सभी (सुरक्षा) बलों को अलर्ट कर दिया गया था, जो पठानकोट आतंकी हमले से प्रभावी तरीके से निपटे , वरना यह (2008) के मुंबई आतंकी हमले से ज्यादा बुरा साबित हो सकता था।

गौड़ा ने बताया कि सरकार पड़ोसी देशों के साथ सामंजस्य और अच्छे रिश्ते बनाए रखना चाहती है और राष्ट्र के हितों की रक्षा भी करना चाहती है। पाकिस्तान से भारत-पाकिस्तान सीमा के जरिए देश में छह आतंकवादी घुस आए थे और एक और दो जनवरी की दरम्यानी रात में उन्होंने पंजाब में पठानकोट के भारतीय वायुसेना स्टेशन पर हमला कर दिया था।

करीब तीन दिनों तक चले अभियान में भारतीय बलों ने एक जबावी अभियान के दौरान इन्हें मार गिराया था। इस दौरान सात सुरक्षाकर्मी भी शहीद हुए थे। गौरतलब है कि पाकिस्तान के पाले में गेंद डालते हुए भारत ने कल विदेश सचिव स्तरीय वार्ता को पठानकोट आतंकी हमले को लेकर इस्लामाबाद की ओर से की जाने वाली शीघ्र एवं निर्णायक कार्रवाई से जोड़ा जिसके लिए कार्रवाई योग्य खुफिया सूचना प्रदान की गई है।

पठानकोट आतंकी हमले के बाद मौजूदा हालात में इस्लामाबाद में 15 जनवरी को विदेश सचिव एस जयशंकर और उनके पाकिस्तानी समकक्ष अजीज अहमद चौधरी के बीच होने वाली बातचीत पर अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डीयू में राम जन्मभूमि सेमिनार का विरोध करना ‘असहिष्णुता’: सुब्रमण्यम स्वामी
2 ओड़ीशा में नक्सली हमले में बीएसएफ अफसर व जवान शहीद
3 मुजफ्फरनगर: बलात्कार के आरोपी की हत्या, नौ के खिलाफ केस दर्ज
ये पढ़ा क्या?
X