ताज़ा खबर
 

यूएई ने पाकिस्तान को सौंप दिया फारूख देवड़ीवाला! बीजेपी नेता हरेन पांड्या की हत्या का है आरोपी

भारतीय एजेंसियों से लगातार संपर्क में रहने के दौरान एयूई में उसे गिरफ्तार किया जा सका। भारतीय अधिकारियों को देवड़ीवाला के यूएई में होने की गुप्त सूचना मिली थी, जिसके बाद वह लगातार उस पर नजर बनाए हुए थे।

देवड़ीवाला का जुड़ाव अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से रहा है। (फाइल फोटो)

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने फारूख देवड़ीवाला को पाकिस्तान के हवाले कर दिया है। वह मोस्ट वॉन्टेड अपराधी है। उस पर गुजरात के गृह मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता हरेन पांड्या की हत्या का आरोप है। ऐसे में यह खबर भारतीय एजेंसियों के लिए बड़े झटके के रूप में देखी जा रही है। कारण भारतीय होने के बाद भी उसे पाक को हवाले करना है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो देवडीवाला को अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का करीबी माना जाता है। हाल ही में उसे दुबई में दबोचा गया। उसके अलावा सैम नाम का शख्स भी पकड़ा गया, जिसकी पहचान मुंबई के जोगेश्वरी निवासी के रूप में की गई।

सूत्रों ने दावा किया कि सैम को भी पाकिस्तान को सौंप दिया गया है। हफ्ते भर पहले उन दोनों को पाकिस्तान को सौंपने की प्रक्रिया को पूरा किया गया था। भारतीय एजेंसियों से लगातार संपर्क में रहने के दौरान एयूई में उसे गिरफ्तार किया जा सका। भारतीय अधिकारियों को देवड़ीवाला के यूएई में होने की गुप्त सूचना मिली थी, जिसके बाद वह लगातार उस पर नजर बनाए हुए थे। एजेंसियां इसी के साथ पाकिस्तानी जासूसी एजेंसी आईएसआई को लेकर भी जांच-पड़ताल में जुटी थीं।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA1 Dual 32 GB (White)
    ₹ 17895 MRP ₹ 20990 -15%
    ₹1790 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

हालांकि, इस पूरे घटनाक्रम के बीच पाकिस्तान ने दावा किया कि देवड़ीवाला भारतीय नहीं, बल्कि पाकिस्तानी नागरिक है। पाकिस्तानी अधिकारियों के इन्हीं दावों के आधार पर यूएई ने उसे पाकिस्तान के हवाले कर दिया। भारतीय इंटेलिजेंस एजेंसियों का इस बाबत कहना है कि आईएसआई द्वारा तैयार किए गए फर्जी दस्तावेजों के आधार पर पाकिस्तान ने देवीड़ीवाला की कस्टडी पा ली।

फारूख, मुसाफिरखाना के अर्जुन गैंग का सदस्य था। वह सलीम कुत्ता के साथ भी काफी वक्त तक जुड़ा रहा है। उस पर यह भी आरोप है कि वह आईएसआई के साथ मिलकर आतंकियों की भर्ती करता था और वह उन्हें भारत में आतंकी गतिविधियां करने के लिए भेजता था। वैसे ऐसा पहला पहली बार नहीं हुआ है, जब पाकिस्तान ने इस तरह से किसी अपराधी या आतंकी की कस्टडी पा ली हो। मुन्ना झिंगड़ा के मामले में भी पाकिस्तान ने कुछ ऐसा ही किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App