ताज़ा खबर
 

सैन्‍य अफसरों ने कहा- फिर से उकसाया तो रणनीति बदलकर पाकिस्‍तान को कर देंगे हैरान

हमले के बाद कमांडो टीम ने मारे गए आतंकियों की संख्‍या गिनने में समय बर्बाद नहीं किया।
Author October 3, 2016 07:54 am
सीमा पर सुरक्षा में लगे भारतीय जवान। (Source: PTI)

भारतीय सेना के सर्जिकल स्‍ट्राइक की जानकारी देने के चार दिन बाद एक वरिष्‍ठ सैन्‍य अधिकारी ने बताया कि यदि फिर से उकसाया गया तो ऑपरेशनल रणनीति में बदलाव किया जाएगा। अधिकारी ने बताया, ”इस तरह के ऑपरेशन में हैरान कर देने वाली बात ही सफलता दिलाती है। इसलिए पूर्वानुमान वाला दोहराव नहीं होगा। यदि दोबारा उकसाया गया तो हम हमारी ऑपरेशनल रणनीतिक में सुधार करेंगे। साथ ही पाकिस्‍तान का सर्जिकल स्‍ट्राइक से मना करने वाला रवैया हमें सुहाता है।” सर्जिकल स्‍ट्राइक के समय और हमले को लेकर जानकारी अब धीरे-धीरे सामने आ रही है। अधिकारियों ने बताया कि अनुमानत: 45-50 आतंकी जिनमें से ज्‍यादातर जैश ए मोहम्‍मद और लश्‍कर ए तैयबा से हैं, वे या तो मारे गए या फिर गंभीर रूप से घायल हैं। सबसे ज्‍यादा नुकसान पाक अधिकृत कश्‍मीर के लीपा इलाके में हुआ। इसके बाद केल और भिंबर में नुकसान हुआ। हालांकि हमले के बाद कमांडो टीम ने मारे गए आतंकियों की संख्‍या गिनने में समय बर्बाद नहीं किया।

भारत-पाकिस्‍तान के बीच जारी है बस सेवा, देखें वीडियो:

सर्जिकल स्‍ट्राइक से जुड़े एक अधिकारी ने बताया, ”हमले की प्रचंडता इतनी ज्‍यादा और यह इतने आश्‍चर्यजनक रूप से हुआ था कि आतंकियों का बच पाना संभव नहीं। यह भी तथ्‍य है कि हमले को कोई जवाब नहीं मिला। इस ऑपरेशन में केवल एक झटका जो था वह बारूदी सुरंग में एक कमांडो का घायल होना था।” स्‍ट्राइक से पहले आतंकी लॉन्‍च पैड के बारे में विशेष खुफिया जानकारी और इंटरसेप्‍ट जमा किए गए। ये लॉन्‍च पैड अर्धनिर्मित थे और रॉकेट व ग्रेनेड हमले में इन्‍हें नुकसान पहुंचा। इन लॉन्‍च पैड में काफी आतंकी थे और घुसपैठ के लिए अमावस्‍या का इंतजार कर रहे थे। खुफिया जानकारी मिली थी कि सैन्‍य ठिकानों पर फिर से हमला किया जाएगा।

READ ALSO: सर्जिकल स्ट्राइक के 4 दिन बाद बारामूला में सेना कैंप पर हमला, एक जवान शहीद, जवाबी कार्रवाई में 2 आतंकी ढेर

संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा का सत्र 26 सितम्‍बर को ही समाप्‍त हुआ था और 28 सितम्‍बर तक सार्क समिट की मेजबानी को लेकर पाकिस्‍तान अकेला पड़ गया था। ये फैक्‍टर भी हमले के वक्‍त काम आए। इसलिए हो सकता है कि सर्जिकल स्‍ट्राइक को दो या तीन दिन आगे बढ़ाया गया हो। 150 के लगभग कमांडो की टीम को पहले से ही एलओसी के पास भेज दिया गया। इस दौरान हमले की रणनीति को दोहरा गया। इंडियन एक्‍सप्रेस को पता चला है कि हमले का वक्‍त पहले से ही तय था और सब कुछ प्‍लांड था। सात कमांडो टीमों को लक्ष्‍य तक पहुंचने में लगने वाले समय को देखते हुए असॉल्‍ट टीमों को तय समय पर भेज दिया गया, जिससे कि हमले लगातार और तेजी से हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.