ताज़ा खबर
 

मोदी-चिनफिंग की मुलाकात से पहले तनातनी! चीन बोला; कश्मीर पर नजर है, भारत का जवाब- हमारे अंदरूनी मामलों से दूर रहें

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि इस मुद्दे पर नयी दिल्ली के रुख से बीजिंग ‘अच्छी तरह से अवगत’ है और हमारे आंतरिक मामलों पर अन्य देश टिप्पणी नहीं करें।

Author नई दिल्ली | Published on: October 10, 2019 8:02 AM
चीनी राष्ट्रपति शुक्रवार को पीएम मोदी से मुलाकात के लिए भारत पहुंच रहे हैं। (फाइल फोटो)

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से बुधवार को कहा कि कश्मीर में स्थिति पर चीन ‘करीबी नजर रखे हुए’ है। साथ ही, उन्होंने उम्मीद जताई कि ‘संबंद्ध पक्ष’ शांतिपूर्ण वार्ता के जरिए इस मामले को सुलझा सकते हैं। इस बीच भारत ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के कश्मीर पर चर्चा करने की खबरों पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

भारत ने बुधवार को कहा कि इस मुद्दे पर नयी दिल्ली के रुख से बीजिंग ‘अच्छी तरह से अवगत’ है और हमारे आंतरिक मामलों पर अन्य देश टिप्पणी नहीं करें। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि हमने शी की खान के साथ बैठक के बारे में खबर देखी है जिसमें कश्मीर पर उनके बीच हुई चर्चा का भी जिक्र किया गया है। भारत का लगातार और स्पष्ट रुख रहा है कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। चीन हमारे रुख से अच्छी तरह से अवगत है। भारत के आंतरिक मामलों पर अन्य देश टिप्पणी नहीं करें।

शी का शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक का कार्यक्रम है। इससे पहले चीनी राष्ट्रपति शी ने खान को यहां एक बैठक में भरोसा दिलाया कि अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय हालात में बदलावों के बावजूद चीन और पाकिस्तान की मित्रता ‘अटूट और चट्टान जैसी मजबूत’ है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ऐसे समय में चीन की यात्रा पर यहां पहुंचे हैं, जब पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त किए जाने के बाद से पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव बढ़ गया है।

शी ने यहां सरकारी अतिथिगृह में खान से मुलाकात के दौरान कहा कि वह नए दौर में साझे भविष्य वाला चीन-पाकिस्तान समुदाय स्थापित करने की खातिर पाकिस्तान के साथ मिलकर काम करने को तैयार हैं। खान ने शी को कश्मीर पर पाकिस्तान के रुख के बारे में जानकारी दी और कहा कि पाकिस्तान कश्मीर पर चीन के ‘वस्तुनिष्ट एवं निष्पक्ष नजरिए’ की बहुत कद्र और सराहना करता है। खान की बीजिंगग यात्रा के समापन पर जारी एक संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि चीन ऐेसे किसी भी एकतरफा कदम का विरोध करता है जो हालात को जटिल बनाता हो।

दोनों दोनों देशों ने रेखांकित किया कि एक शांतिपूर्ण, स्थिर, सहयोगी और समृद्ध दक्षिण एशिया में ही सभी पक्षों का हित है। सभी पक्षों को समानता एवं आपसी सम्मान के आधार पर वार्ता के जरिए क्षेत्र के विवादों एवं मामलों को सुलझाना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 National Hindi News, 10 October 2019 Updates: आज तमिलनाडु में होगी PM मोदी और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग की मुलाकात
2 बगावत से जूझ रही बीजेपी ने करीब 100 नेताओं को पार्टी से निकाला, विधायक को भी थमाया नोटिस
3 Weather Forecast Today Updates: मौसम विभाग ने चेताया, हवा और मौसम में आएगा बदलाव