ताज़ा खबर
 

26/11 ब्लास्ट मामले में पाकिस्तान का खुलासाः कहा-‘हमारे मुल्क में ही रची गई थी साजिश’

बीते कई दिनों से देश में फैला रहे आतंकी सरगनों का एक के बाद एक बड़ा खुलासा हो रहा है। कभी आईएसआईएस आतंकी संगठन में भारतीय नागरिकों के शामिल होने की खबर आती है तो कभी 1993 बॉम्बे ब्लास्ट में याकूब की बजाए टाईगर को असली गुनहगार करार दिया जाता है। ऐसे में

26/11 मामले में नया खुलासा

बीते कई दिनों से देश में फैला रहे आतंकी सरगनों का एक के बाद एक बड़ा खुलासा हो रहा है। कभी आईएसआईएस आतंकी संगठन में भारतीय नागरिकों के शामिल होने की खबर आती है तो कभी 1993 बॉम्बे ब्लास्ट में याकूब की बजाए टाईगर को असली गुनहगार करार दिया जाता है। ऐसे में

और अब मुंबई में 26/11 के हमले की साजिश के मामले में नया खुलासा हुआ है। दरअसल, पाकिस्तान के एक पूर्व सुरक्षा अधिकारी ने अपने लेख में लिखा गया है कि मुंबई में गेटवे ऑफ इंडिया के किनारे स्थित 26/11 को होटल ताज में हुए हमले की साजिश पड़ोसी मुल्क में ही रची गई थी। हमला मामले में जांचकर्ता रहे तारिक खोसा ने लिखा है कि वह हमला न सिर्फ पाकिस्तान से प्रायोजित था बल्कि आतंकियों की ट्रेनिंग भी सरहद पार ही हुई थी।

पाकिस्तान की फेडरल इनवेस्टिगेशन एजेंसी (एफआईए) के डीजी रहे तारिक खोसा ने कहा है कि मुंबई हमले में पाकिस्‍तान की गलती के शुरुआती सबूत हैं और सरकार को यह सच मान लेना चाहिए। खोसा की ही अगुवाई में पाकिस्‍तान सरकार ने इस हमले की जांच करवाई थी।

प्रतिष्ठि‍त पाकिस्‍तानी अखबार ‘डॉन’ में प्रकाशित लेख में खोसा ने लिखा, ‘एक मुल्‍क के तौर पर अब हमें कड़वे सच का सामना करना चाहिए और अपनी जमीन से आतंकियों का खात्मा करना चाहिए’।

इतना ही नहीं खोसा ने अपने लेख ये भी लिखा कि बेनजीर भुट्‌टो की हत्या और मेमोगेट केस की जांच की जिम्मेदारी भी सौंपी गई थी। उनकी छवि पाकिस्तान में एक बेदाग और ईमानदार अफसर की है। खोसा ने अपने लेख में कहा है कि पाकिस्तान ने अपनी जमीन से मुंबई हमले की साजिश रचने और उसे अंजाम देने में मदद की है।

इस लेख में यह भी खुलासा किया गया है कि जांच में यह साफ हुआ कि हमला करने वाले सभी आतंकी पाकिस्तान से ही थे। हमले की साजिश और अंजाम देने के लिए लॉजिस्टिक सेंटर सिंध में बनाया गया था, जबकि मास्टरमाइंड कराची में बैठकर आतंकियों को निर्देश दे रहे थे। खोसा के मुताबिक, उनके पास 7 फैक्ट्स हैं, जो उनके दावे की पुष्टि करते हैं इसलिए पाकिस्तान को मुंबई हमले की ट्रायल में तेजी लानी चाहिए और पीड़ितों को न्याय दिलाना चाहिए।

इसलिए उन्होंने पाकिस्तान सरकार से गुजारिश की है कि उन्हें ट्रायल में तेजी बरतकर मुंबई हमले के पीड़ितों को न्याय दिलाना चाहिए। खोसा ने अपने आर्टिकल में लिखा है कि इस जांच में साफ है कि सभी आतंकी पाकिस्तान से थे। हमले की साजिश और अंजाम देने के लिए लॉजिस्टिक सेंटर सिंध में बनाया गया था। मास्टरमाइंड कराची में बैठकर आतंकियों को निर्देश दे रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App