ताज़ा खबर
 

Padmavati Story: पद्मावत में संजय लीला भंसाली जो भी दिखाएं, इतिहास में आम है पद्मावती की यह कहानी

Padmavati History: रानी पद्मावती सुल्तान के आमने-सामने नहीं होना चाहती थीं। लिहाजा, शीशे का इस तरह प्रबंध किया गया कि सुल्तान रानी की छाया उसमें देख सके। रानी की एक झलक देखकर अलाउद्दीन खिलजी रानी पर मोहित हो गया। उसने मन ही मन तय कर लिया कि वो रानी पद्मावती को लिए बिना दिल्ली नहीं लौटेगा।

Author Updated: January 25, 2018 9:39 AM
Padmavati: 12वीं-13वीं सदी के दौरान दिल्ली सल्तनत का बादशाह अलाउद्दीन खिलजी रानी पद्मावती की सुंदरता की कहानी सुनकर बेकरार हो गया था और रानी की एक झलक पाने के लिए अपनी सेना के साथ चितौड़गढ़ कूच कर गया था।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद फिल्म पद्मावत गुरुवार (25 जनवरी) को देशभर में रिलीज तो हो रही है लेकिन करणी सेना के लोग उसके विरोध में राजस्थान, हरियाणा, गुजरात समेत कई राज्यों में हंगामे पर उतारू हैं। वो इस बात पर अडिग हैं कि फिल्म राजपूत अस्मिता के खिलाफ है। बता दें कि निर्माता-निर्देशक संजय लीला भंसाली की यह फिल्म हिन्दी साहित्य के भक्तिकालीन कवि मलिक मुहम्मद जायसी की रचना ‘पद्मावत’ पर आधारित है। इस रचना में कवि ने राजस्थान के चितौड़गढ़ की राजपूत रानी के सौंदर्य की कहानी का वर्णन किया है। रानी पद्मावत को पद्मिनी नाम से भी जाना जाता है। पद्मावत में इस बात की चर्चा है कि 12वीं-13वीं सदी के दौरान दिल्ली सल्तनत का बादशाह अलाउद्दीन खिलजी रानी पद्मावती की सुंदरता की कहानी सुनकर बेकरार हो गया था और रानी की एक झलक पाने के लिए अपनी सेना के साथ चितौड़गढ़ कूच कर गया था।

दरअसल, पद्मिनी उर्फ पद्मावती सिंहल प्रांत के राजा गंधर्वसेन और माता चंपावती की संतान थीं। कहा जाता है कि पद्मिनी के पास हीरामणी नाम का एक तोता भी था, जिसके साथ वह अक्सर संवाद किया करती थी। राजा गंधर्वसेन ने बेटी की शादी के लिए स्वयंवर का आयोजन किया था, जिसमें हिन्दू राजाओं और राजपूतों को बुलाया गया था। इस स्वयंवर में चितौड़गढ़ के राजा रावल रतन सिंह ने एक छोटे प्रांत के राजा मलखान सिंह को पराजित कर पद्मिनी को हासिल किया था। पद्मिनी रतन सिंह की दूसरी पत्नी थीं। विवाह के बाद ये लोग चितौड़गढ़ लौट आए।

पद्मावत विवाद: करणी सेना वालों ने गुरुग्राम में फूंकी बस, जम्मू के सिनेमा में भी तोड़फोड़

यहां के राजपूतों ने देखी पद्मावत, बोले- फिल्म में सब ठीक है, वापस लिया विरोध

राजा रतन सिंह एक अच्छे शासक के साथ ही कला के संरक्षक भी थे, इसलिए उनके दरबार में कई तरह के लोग शामिल थे। उनके दरबार में राघव चेतन नाम का एक संगीतकार भी था। चेतन तंत्र-मंत्र भी जानता था, यह बात सभी से छुपी हुई थी लेकिन एक दिन उसे तंत्र-मंत्र करते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया गया। इसके बाद राजा रतन सिंह ने उसे अपने राज्य से निकाल दिया। कहा जाता है कि राजा ने उसके चेहरे पर कालिख भी पुतवा दी थी। इससे वह काफी नाराज था, उसने राजा से बदला लेने की ठान ली। इसलिए, चितौड़गढ़ से निष्कासन के बाद राघव चेतन अलाउद्दीन खिलजी के दिल्ली दरबार में पहुंच गया।

Padmaavat Movie Review: रानी पद्मिनी की बहादुरी और राजपूतों के शौर्य को बयां करती है फिल्म

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पत्रकार थे लालकृष्ण आडवाणी, जब-जब छोटे कद के लालबहादुर शास्त्री से मिलते, कायल हो जाते, जानें-क्यों?
2 पूर्व पीएम की हत्या के दोषी की सुप्रीम कोर्ट से गुहार- 26 साल से हूं जेल में अब करो रिहा
जस्‍ट नाउ
X