ताज़ा खबर
 

पद्मावत विरोध: एंकर पर बिफरे करणी सेना के नेता- गर्दन कट सकती है, फांसी चढ़ सकते हैं, माफी हमारी किताब में नहीं

गुरुवार (18 जनवरी, 2017) को बिहार के कुछ सिनेमाघरों में प्रदर्शनकारियों ने तोड़फोड़ की है। करणी सेना से जुड़े कुछ लोगों ने फिल्म रिलीज होने पर बुरे हालात पैदा करने की धमकी दी है।
श्री राजपूत करणी सेना के कार्यकर्ता। (PTI File Photo)

सुप्रीम कोर्ट ने निर्माता-निर्देशक संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ को पूरे देश में रिलीज करने का आदेश दिया है। बावजूद इसके करणी सेना ने फिल्म का विरोध करना बंद नहीं किया है। इधर, गुरुवार (18 जनवरी, 2017) को बिहार के कुछ सिनेमाघरों में प्रदर्शनकारियों ने तोड़फोड़ की है। करणी सेना से जुड़े कुछ लोगों ने फिल्म रिलीज होने पर बुरे हालात पैदा करने की धमकी दी है। सेना के नेता तो यहां तक कह रहे हैं कि गर्दन कटा सकते हैं लेकिन माफी नहीं मांगेंग।लिहाजा, मीडिया में अब इस बात की चर्चा है कि क्या करणी सेना सुप्रीम कोर्ट से ऊपर है। न्यूज 18 इंडिया के एंकर अमीष देवगन ने भी अपने कार्यक्रम आर-पार में इस मुद्दे पर बहस बुलाई कि क्या सुप्रीम कोर्ट से भी बड़ी है करणी सेना।

प्रोग्राम में एंकर अमीष देवगन ने कहा कि आप धमकी दे रहे हैं, कानून और सुप्रीम कोर्ट को चैलेंज कर रहे हैं और उन लोगों का समर्थन कर रहे हैं जो उपद्रवी हैं। एंकर ने कहा, आप माफी मांगिए। इस पर करणी सेना के महासचिव सूरजपाल अम्मू बिफर पड़े। उन्होंने कहा, “गर्दन कट सकती है, फांसी चढ़ सकते हैं, माफी हमारी किताब में नहीं है।” हम माफी नहीं मांगेंगे। माफी मांगनी है तो संजय लीला भंसाली माफी मांगे, जिसने यह फिल्म बनाई है। सूरजपाल ने यह भी कहा कि सेंसर बोर्ड के चेयरमैन प्रसून जोशी ने इतिहासकारों का अपमान किया है।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि जब सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट मिल गया है तो इस फिल्म को रिलीज होने से क्यों रोका जा रहा है?  साथ ही सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मामला है। फिल्म को रिलीज होने से नहीं रोका जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने एमपी, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान सरकार के आदेश पर रोक लगा दी है। यह राज्य अपने यहां फिल्म को रिलीज करने के खिलाफ हैं। ‘पद्मावत’ 25 जनवरी को रिलीज होनी है। फिल्म को तमिल, तेलुगु और हिंदी में रिलीज किया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App