Padmavati Movie Review LIVE, Padmavat Movie Release Protest, Padmavati Box Office Collection First Day 1 LIVE UPDATES: Karni Sena Voilence in 4 States, Protets in Gurgaon, Gujarat and Other States - पद्मावत: देशभर में विरोध के बावजूद 4000 स्क्रीन्स पर रिलीज हुई फिल्म, आगजनी-तोड़फोड़ के अलावा जानें और क्या हुआ पूरे दिन - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पद्मावत: देशभर में विरोध के बावजूद 4000 स्क्रीन्स पर रिलीज हुई फिल्म, आगजनी-तोड़फोड़ के अलावा जानें और क्या हुआ पूरे दिन

Padmaavat Controversy Protest LIVE: करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी ने बुधवार को धमकी देते हुए कहा, "25 जनवरी आए और जाए लेकिन हम फिल्म रिलीज नहीं होने देंगे, चाहे कुछ भी हो जाए।"

Padmaavat Movie Release LIVE Updates: पुलिस का कहना है कि वह सुनिश्चित करेगी कि कोई भी अप्रिय घटना न हो और करणी सेना के अध्यक्ष पर करीब से नजर रखी जाएगी।

Padmaavat (Padmavati) Movie Release Protest Live Updates: हिंसक विरोध प्रदर्शनों, धमकियों और गुंडई से गुजरकर आखिरकार गुरुवार (25 जनवरी) को पद्मावत रिलीज हुई। फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली की यह फिल्म देश के चार राज्यों को छोड़ कर 4000 स्क्रीन्स पर दिखाई गई। 150 करोड़ रुपए की लागत से बनी इस फिल्म को पहले ही दिन तकरीबन 10 लाख लोगों ने देखा। ये जानकारी फिल्म को बनाने वाली कंपनी वियाकॉम 18 की ओर से दी गई। हालांकि, कुछ जगहों पर इसे चेतावनियों और हिंसा के डर के कारण रिलीज नहीं किया गया। रोचक बात है कि दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर स्टारर इस फिल्म का कुछ हफ्तों पहले तक जो विरोध कर रहे थे, उन्होंने इसे देखने के बाद माना है कि इसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। मुंबई में एक फिल्म देखकर निकले शख्स ने बताया कि फिल्म शानदार थी। भंसाली ने अच्छा काम किया है। फिल्म में इसी के साथ संस्कृति की प्रशंसा की गई है। शाम को गुरुग्राम से करणी सेना के सूरज पाल अमू भी हिरासत में लिए गए। भारत में भले ही इस फिल्म को लेकर गुंडई और विरोध प्रदर्शन देखने को मिले हों, मगर पाकिस्तान में इस फिल्म को बगैर किसी काट-छांट के सेंसर ने पास किया है।

उधर, महाराष्ट्र, गुजरात और उत्तर प्रदेश में सिनेमा थियेटर्स के बाहर फिल्म की रिलीज के खिलाफ हिंसा, आगजनी और प्रदर्शन होते रहे। ऐसा सिर्फ और सिर्फ करणी सेना के कहने पर हुआ। आपको बता दें कि बुधवार (24 जनवरी) को करणी सेना के अध्यक्ष लोकेंद्र सिंह कल्वी ने कहा था कि वह किसी भी हालत में फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे। वह और उनका संगठन फिल्म के खिलाफ हैं। कल्वी ने इसी के साथ जनता कर्फ्यू लगाने की अपील की। हालांकि, उनके देशव्यापी बंद बुलाने के बाद भी गुजरात में किसी प्रकार का खास असर नहीं देखने को मिला। राजस्थान में हंगामे के डर को लेकर सिनेहॉल मालिकों ने ही फिल्म लगाने से इन्कार कर दिया। बिहार में भीड़ ने जगह-गह थियेटरों के बाहर बवाल काटा।

वाराणसी में इससे पहले एक प्रदर्शनकारी ने सिनेमा हॉल के बाहर खुद को आग लगाने की कोशिश, जिसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया। लखनऊ में करणी सेना के सदस्‍यों ने नॉवेल्‍टी सिनेमा हॉल के बाहर फिल्‍म देखने आए लोगों को गुलाब बांटे। एक कार्यकर्ता ने कहा कि ‘जिन लोगों ने टिकट खरीद लिए हैं, हम उन्‍हें पैसा वापस करेंगे।’ ऋषिकेश में एक सिनेमा हॉल के बाहर पुलिस और बजरंग दल कार्यकर्ताओं में झड़प हुई। राजस्‍थान, हरियाणा, बिहार, जम्‍मू-कश्‍मीर जैसे राज्‍यों में थियेटर्स के भीतर तोड़फोड़ की गई। गुरुग्राम के सोहना रोड पर प्रदर्शनकारियों ने बस फूंक दी और पत्‍थरबाजी की। हरियाणा के मंत्री राम बिलास शर्मा ने गुरुगाम में स्‍कूली बस पर पथराव की घटना को ‘चिंताजनक’ बताया है। उन्‍होंने कहा कि ‘हमें ऐसी घटना का अंदेशा नहीं था।’ स्‍कूली बस पर पथराव मामले में पुलिस ने 18 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्‍हें आज सोहना कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।

सर्वोच्च न्यायालय 29 जनवरी को करणी सेना के सदस्यों के खिलाफ गुरुवार को ‘पद्मावती’ की रिलीज में बाधा डालने के लिए अवमानना की दो याचिकाओं पर सुनवाई करेगा। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति डी.वाय. चंद्रचूड़ ने कहा कि याचिकाओं पर सोमवार को सुनवाई होगी। याचिकाएं पुणे के सामाजिक कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला और मुंबई के वकील विनीत ढांडा ने दायर की हैं। श्री राजपूत करणी सेना के कार्यकतार्ओं द्वारा व्यापक विरोध और बर्बरता का हवाला देते हुए याचिकाकतार्ओं ने तर्क दिया है कि उनके कृत्य सर्वोच्च न्यायालय के 18 जनवरी के आदेश का उल्लंघन हैं। ढांडा ने श्री राजपूत करणी सेना के संस्थापक लोकेंद्र सिंह कलवी, राष्ट्रीय अध्यक्ष सूरज पाल और सदस्य करम सिंह के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही करने की मांग की है।

यहां के राजपूतों ने देखी पद्मावत, बोले- फिल्म में सब ठीक है, वापस लिया विरोध

अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को राजनीतिक बवाल के बावजूद पूरी उम्मीद है कि फिल्म बॉक्स-ऑफिस पर धमाकेदार प्रदर्शन करेगी। दीपिका से जब यह पूछा गया कि वह लगातार विरोध कर रहे लोगों को क्या संदेश या जवाब देना चाहेंगी, उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि हर चीज का एक समय होता है और फिल्म खुद बोल रही है क्योंकि ज्यादातर ने हमारी फिल्म (स्क्रीनिंग और प्रेस शो के माध्यम से) को अभूतपूर्व प्रतिक्रिया दी है।” उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि हम किसी को भी सबसे बेहतर जवाब अपने काम से दे सकते हैं। हम रिलीज को लेकर बहुत उत्साहित और अभिभूत हैं” अभिनेता रणवीर सिंह ने बुधवार को कहा कि पूरे देश को ‘पद्मावत’ पर गर्व होगा। रणवीर ने ट्विटर के जरिए कहा कि वह ‘पद्मावत’ को लेकर खुश हैं और खुद को गौरवान्वित महसूस करते हैं।

Padmaavat (Padmavati) Movie Release Protest Live Updates

– विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर पद्मावत के निर्देशक संजय लीला भंसाली के मुंबई के वर्सोवा स्थित घर के बाहर गुरुवार को पुलिस बल तैनात किया गया, ताकि कोई अप्रिय घटना को अंजाम न दिया जा सके।

फिल्म डायरेक्टर संजय लीला भंसाली के घर के बाहर मुस्तैद पुलिस बल। (एक्सप्रेस फोटोः अमित चक्रवर्ती)

– फिल्म की रिलीज के विवाद को लेकर गुरुवार को कर्नाटक में भी स्क्रीनिंग में लोगों को देरी का सामना करना पड़ा। बेंगलुरू स्थित मॉल्स में शाम तक बंद के कारण मूवी हॉल के शटर गिरे रहे।

– पाकिस्तान के सेंसर बोर्ड ने पद्मावत को बगैर किसी काट-छांट के हरी झंडी दे दी। इस्लामाबाद स्थित सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सेंसर्स के अध्यक्ष मोबशिर हसन ने सोशल मीडिया के जरिए इसकी जानकारी दी। इसी बीच क्षत्रिय महासभा के कार्यकर्ताओं ने फिल्म को लेकर यूपी की राजधानी लखनऊ में प्रदर्शन किया।

– करणी सेना के महासचिव को हिरासत में लिए जाने की गुरुवार शाम को डीसीपी ईस्ट गुरुग्राम कुलदीप सिंह ने पुष्टि की। उन्होंने कहा, “सूरज पाल को हिरासत में ले लिया गया है। जांच के आधार पर उन पर उचित कार्रवाई की जाएगी।”

– दिल्ली से सटे गुरुग्राम से करणी सेना के महासचिव और हरियाणा भाजपा के मीडिया कॉर्डिनेटर सूरज पाल अमू को उनके आपत्तिजनक बयान को लेकर हिरासत में लिया गया है।

– देश भर में पद्मावत के विरोध को लेकर केंद्र सरकार ने साफ किया है कि कानून और व्यवस्था बरकरार रखने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों की है। गृह मंत्रालय ने कहा कि जिन राज्यों में हिंसा और आगजनी हुई वहां पर रैपिड एक्शन फोर्स तैनात की जानी चाहिए, जिसे खासकर इस प्रकार के विरोध प्रदर्शनों को संभालने और निपटने के लिए ट्रेनिंग दी जाती है।

– राजस्थान के गृह मंत्री ने लोगों से शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने और कानून अपने हाथों में न लेने की अपील की। उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया कि पद्मावत की स्क्रीनिंग के दौरान राज्य भर में कानून और न्याय व्यवस्था स्थिर रहे।

– बिहार के एडीजी (हेडक्वार्टर) संजीव कुमार सिंघल ने कहा, “पुलिस बल को उचित निर्देश जारी किए गए हैं। उन्हें स्पष्ट किया गया है कि फिल्म देखने गए लोगों की सुरक्षा पहली प्राथमिकता है। अभी तक किए गए विरोध प्रदर्शन कानून व्यवस्था के दायरे में किए गए थे। अगर कोई इन्हें तोड़ने का प्रयास करेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।”

– हरियाणा के डीजीपी ने कहा है कि अब राज्य में हालात नियंत्रण में है। सभी सिनेमाघरों को पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बल मुहैया कराए गए हैं। डीजीपी के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति कानून को हाथ में लेते पकड़ा गया तो उसे कठोर दंड दिया जाएगा।

– मध्य प्रदेश के देवास में एक ढाबे पर विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ की। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद प्रदर्शनकारियों को यहां से हटाया गया।

– उत्तर प्रदेश में ‘पद्मावत’ की रिलीज को देखते हुए पूरे राज्य में हाईअलर्ट जारी कर दिया गया है। पुलिस महानिदेशक कार्यालय के अधिकारियों का दावा है कि अधिकारियों को सख्त हिदायत दी गई है कि कानून व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने वालों को बख्शा न जाए। प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने कहा कि कानून को हाथ में लेने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि नोएडा, डीएनडी टोल, कानपुर में सिनेमा हल में तोड़फोड़ करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। प्रदेश में फिल्म ‘पद्मावत’ के रिलीज होने के सम्बन्ध में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सतर्कता बरतने के निर्देश जारी किए गए हैं।

-करणी सेना के विरोध के चलते इंडियन एक्सप्रेस की फिल्म क्रिटिक ने एक ट्वीट किया है। शुभ्रा गुप्ता ने अपने पोस्ट में कहा है, ‘पद्मावत रिलीज हो चुकी है। फिल्म देखिए। यह हमारा हक है कि हम कुछ भी देखें, हमारी मर्जी है। क्या पसंद करें और क्या नापसंद हमारा हक है।’

-ट्रेड एनेलिस्ट गिरीश जौहर ने  ट्वीट कर कहा है कि फिल्म पेड प्रिव्यू के माध्यम से बुधवार को 4 से 5 करोड़ रुपए तक की कमाई कर सकती है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सिनेमाघरों में 50 से 60 प्रतिशत सीटें दर्शकों से भरी हैं। यहां कहीं न कहीं लोगों में करणी सेना का भय देखा जा सकता है।

– एक तरफ करणी सेना का प्रोटेस्ट चल रहा है। वहीं दूसरी तरफ फिल्म ‘पद्मावत’ देखने के बाद कई बॉ़लीवुड स्टार्स ने फिल्म को लेकर अपनी राय दी है। इस बीच एक्टर नील नितिन मुकेश ने भी फिल्म को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। नील ने फिल्म देखने के बाद संजय लीला भंसाली को बॉलीवुड का भगवान तक कह दिया है। नील ट्वीट कर कहते हैं, ‘इतिहास का गवाह…लग रहा है जैसे मैं यहीं हूं। हर पल फिल्म में कुछ ऐसा है जो भव्य है विशाल है। मैं संजय लीला भंसाली का बहुत बड़ा फैन हो गया हूं। वह इंडियन सिनेमा के भगवान हैं।’

– कांग्रेस ने गुरुवार को ‘पद्मावत’ की स्क्रीनिंग को रोकने के प्रयासों को ‘निंदनीय’ बताया और पूरे मुद्दे पर सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी की चुप्पी पर सवाल उठाया। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने ट्वीट किया, “‘पद्मावत’ की रिलीज को रोकने के लिए गुंडागर्दी नीचता, निंदनीय और पूरी तरह से घृणास्पद है।”

– दिल्‍ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को एक कार्यक्रम में कहा कि गुरुग्राम में स्‍कूली बच्‍चों की बस पर पथराव का वीडियो देखने के बाद वह पूरी रात सो नहीं सके। उन्‍होंने कहा कि ”मैं देश में ऐसी हिंसा नहीं देख सकता।” केजरीवाल ने मांग की कि ऐसा करने वालों को ‘राक्षसों से ज्‍यादा कठोर सजा मिले।’

– बिहार के मुजफ्फरपुर में प्रदर्शनकारियों ने खुलेआम तलवारें लहराईं, टायर जलाए। जयपुर में करणी सेना के सदस्‍यों ने फिल्‍म के विरोध में बाइक रैली निकाली। दूसरी तरफ, पद्मावत के खिलाफ याचिका की सुनवाई करने से दिल्‍ली हाई कोर्ट ने इनकार कर दिया है। हाई कोर्ट ने याचिकाकर्ता से सुप्रीम कोर्ट जाने को कहा है।

– मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, करणी सेना ने फिल्‍म टिकट बेचने वाले कंपनी BookmyShow को धमकी दी है। संगठन ने कहा है कि ‘फिल्‍म के टिकटों की बुकिंग बंद कर दी जाए वर्ना वे कभी कुछ बुक करने लायक नहीं रहेंगे।’

– दिल्‍ली के राजौरी गार्डन स्थित थियेटर में फिल्‍म देखने ठीक-ठाक लोग आए हैं। लोगों का कहना है कि वे यह देखने आए है कि ‘इस फिल्‍म पर इतना विवाद किसलिए है।’ वहीं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा है कि ‘किसी धर्म या जाति की भावनाएं आहत करने वाली फिल्‍में नहीं बननी चाहिए।” पूरे मसले पर भाजपा नेता सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने कहा है कि ”इससे पुराने घाव हरे हो जाते हैं और इसीलिए ऐसी फिल्‍में नहीं बननी चाहिए। इसका ऐतिहासिक महत्‍व क्‍या है? जीरो।”

Padmaavat Movie Review and Audience Reactions LIVE: देखने वालों से जानिए, कैसी है फिल्‍म

– पद्मावत विवाद पर केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने एएनआई से कहा, ”अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता इतिहास को तोड़फोड़ करने की इजाजत नहीं देती। जो विरोध कर रहे हैं उनके साथ बैठकर इसको सुलझाया जाए। जब चीजें सहमति से नहीं होती हैं तो फिर उसमें गड़बड़ होती है।”

– हरियाणा के गुरुग्राम में ऐहतियातन कुछ स्‍कूल बंद रखे गए हैं। इसके अलावा महाराष्‍ट्र, यूपी में थियेटर्स की सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं। दिल्‍ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, “अगर सभी राज्य सरकारें, केंद्र सरकार और सर्वोच्च न्यायालय एक साथ मिलकर एक फिल्म की सुरक्षित रिलीज नहीं करा सकते और इसे चला नहीं सकते तो हम कैसे निवेश के प्रवाह की उम्मीद कर सकते हैं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App