P Chidambaram says, Is there no black money in country now, demonetisation - चिदंबरम में बोले- क्या अब देश में कालाधन नहीं है, तो चुनाव में यूपी से मिले 121 करोड़ सफेद धन था? - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने नोटबंदी पर ली चुटकी, पूछा- क्या चुनाव के दौरान जब्त किए गए रुपए सफेद धन था?

पी. चिदंबरम ने कहा, 'भारतीय रिजर्व बैंक सरकार को सिफारिश करता है, लेकिन यहां सरकार आरबीआई को सिफारिश कर रही है।

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम। ( File Photo)

पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर शनिवार को एक बार फिर निशाना साधा है। चिदंबरम ने पूछा कि क्या देश से अब काला धन खत्म हो गया है तो पंजाब और यूपी विधानसभा चुनाव में इतनी रकम कैसे जब्त मिली है। चिदंबरम ने कहा, ‘क्या अब देश में कालाधन खत्म हो गया है? चुनाव के दौरान उत्तर प्रदेश से 121 करोड़ रुपए और पंजाब से 70 करोड़ रुपए जब्त किए गए थे। क्या यह सफेद धन था?’

साथ ही उन्होंने कहा, ‘भारतीय रिजर्व बैंक सरकार को सिफारिश करता है, लेकिन यहां सरकार आरबीआई को सिफारिश कर रही है। 10 डायरेक्टर्स की बजाय 2 डायरेक्टर बैठक में शामिल होते हैं।’ चिदंबरम ने कहा, ‘अभी भी एटीएम मशीनें काम नहीं कर रही हैं, कैश की किल्लत अभी भी बनी हुई है। अगर आपने नोट की साइज बदली है तो एटीएम मशीनों यूजलेस हो गईं। उनसे केवल 1000 और 500 के नोट निकलते थे, आपने 2000 का नोट जारी किए ऐसे में मशीनों को रिकेलेब्रेशन करना पड़ा।’

बता दें, इससे पहले भी पी.  चिदंबरम ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा था कि नोटबंदी सबसे बड़ा घोटाला है और इससे गरीबों और किसानों को सबसे ज्यादा परेशानी हुई है। उन्होंने कहा था कि यह इस साल का सबसे बड़ा घोटाला है जिसकी जांच होनी चाहिए। 15 लाख आ जाएंगे तो कालाधन कहां जाएगा। सबकुछ ठीक होने में 7 महीने लगेंगे। नोटबंदी का फैसला “खोदा पहाड़, निकली चुहिया” के समान है।

उन्होंने पूछा था, ’15 लाख आ जाएंगे तो कालाधन कहां जाएगा?  नोटबंदी से कालाधन खत्म हुआ क्या? नोटबंदी से भ्रष्टाचार रुका क्या? आतंकियों की फंडिग रुकी क्या?’

इसके अलावा उन्होंने कहा था, ‘नोटबंदी के फैसले के पीछे केंद्र सरकार का दावा था कि इससे काले-धन और भ्रष्टाचार को खत्म करने में आसानी होगी। वहीं इस फैसले से लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा। चिदंबरम ने कहा है कि आरबीआई 1000 और 500 रुपये के नोट बंद करने के खिलाफ था। पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने गवर्नर पद से 4 सितंबर को इस्तीफा दिया था और इसकी वजह नोटबंदी का फैसला ही था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App