ताज़ा खबर
 

असदुद्दीन ओवैसी का आरएसएस प्रमुख को जवाब- नहीं बोलूंगा भारत माता की जय, क्या कर लोगे भागवत साहब

ओवैसी ने कहा कि, "हमारे संविधान में कहीं नहीं लिखा है कि भारत माता की जय बोलना जरूरी है। इसकी आज़ादी मुझे मेरा संविधान देता है

ओवैसी का यह बयान मोहन भागवत के बयान का जवाब माना जा रहा है।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि वह ‘भारत माता की जय’ नहीं बोलेंगे।  तीन मार्च को संघ प्रमुख ने जेएनयू विवाद के संदर्भ में कहा था, “आजकल देश में ‘भारत माता की जय’ बोलने के लिए भी लोगों को सिखाना पड़ता है।” ओवैसी का बयान मोहन भागवत के बयान के जवाब में आया है।

रविवार को महाराष्ट्र के लातूर जिले में रैली के दौरान ओवैसी ने कहा, ” मैं यह नारा नहीं बोलूंगा, क्या कर लोगे भागवत साहब। अगर मेरी गर्दन पर चाकू रख दोगे तो भी मैं यह नारा नहीं बोलूंगा।” तालियों की गड़गड़ाहट के बीच ओवैसी ने कहा, “हमारे संविधान में कहीं नहीं लिखा है कि भारत माता की जय बोलना जरूरी है। इसकी आज़ादी मुझे मेरा संविधान देता है।” उन्‍होंने यह भी कहा कि वो इशरत जहां के परिवार का समर्थन जारी रखेंगे।

औवेसी ने श्री श्री रविशंकर के कार्यक्रम में लगे पाकिस्तान जिंदाबाद के नारों को हवाला देते हुए बीजेपी पर भी हमला बोला। औवेसी ने कहा कि, “गृहमंत्री राजनाथ सिंह के सामने बाबा बोल दिए पाकिस्तान जिंदाबाद, पाकिस्तान जिंदाबाद। मैं टीवी पर देख कर सोच रहा था कि यह पाकिस्तान का टीवी  है या इंडिया में यह हो रहा है। गृहमंत्री के सामने नारे लग रहे हैं। यह तो ऐसा हो गया कि शिवसेना को कोई बड़ा नेता खड़ा हो और उसके सामने कोई आकर बोल दे असदुद्दीन ओवैसी जिंदाबाद”

Read Also: RSS बनाम ISIS: भाजपा ने दी कानूनी कार्रवाई की चेतावनी, गुलाम नबी आजाद बोले- पहले ये सीडी सुन कर आइए 

ओवैसी पहले भी आरएसएस पर कटाक्ष करते रहे हैं। आरएसएस हिंदुओं द्वारा ज्‍यादा बच्‍चे पैदा करने का हिमायती रहा है। इस पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा था कि आरएसएस ‘कुंवारों का क्‍लब’ है, उसे बच्‍चा पैदा करने की सलाह नहीं देना चाहिए।

असदुद्दीन ओवैसी के इस वीडियों के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोग इस पर तेजी से प्रतिक्रिया दे रहे हैं। ट्विटर पर भारत माता की जय ट्रेंड कर रहा है। इस से जुड़े ट्वीट्स देखें।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App