ताज़ा खबर
 

नौकरी के लिए मार, फिर भी खाली पद नहीं भर रही सरकार? BSF, CRPF में हैं करीब 1 लाख वैकेंसियां

सरकार के मुताबिक, इनमें से अधिकतर खाली सेवानिवृत्ति, इस्तीफों और मौतों की वजह से हुए हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: September 21, 2020 3:47 PM
Central Armed Police Forces Jobs, BSF Jobs, CRPF JobsIndo-Bangla Border पर पैट्रोलिंग करते हुए BSF (Border Security Force of India) के जवान। (Express photo by Abhise Saha)

केंद्र सरकार ने सोमवार को बताया कि BSF और CRPF सरीखे Central Armed Police Forces में करीब एक लाख पद खाली पड़े हैं। इनमें से अधिकतर खाली सेवानिवृत्ति, इस्तीफों और मौतों की वजह से हुए हैं।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) में सबसे अधिक रिक्तियां (28,926) हैं, इसके बाद केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) में (26,506), केन्द्रीय औद्योगिकी सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) में (23906), सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) में (18,643), भारत तिब्बत सीमा पुलिस आईटीबीपी में (5,784) और असम राइफल्स में (7328) पद रिक्त हैं।

उन्होंने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, ‘‘सीएपीएफ और असम राइफल्स में रिक्तियां सेवानिवृत्ति, इस्तीफे, मृत्यु, नए इकाई के बनाने, नए पदों के सृजन, कैडर समीक्षा आदि के कारण उत्पन्न होती हैं। इन रिक्तियों में से अधिकतर कांस्टेबल ग्रेड में हैं।’’

राय ने कहा कि इन रिक्तियों को भरने के लिए एक स्थापित प्रक्रिया है जैसे मौजूदा प्रावधानों के अनुसार सीधी भर्ती, पदोन्नति और प्रतिनियुक्ति के माध्यम से भर्ती की जाती है।

मंत्री ने कहा कि सरकार ने सीएपीएफ में रिक्त पदों को भरने के लिए त्वरित कदम उठाए हैं, जो एक सतत प्रक्रिया है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में, कांस्टेबल के 60,210 पदों के लिए भर्ती की प्रक्रिया, कर्मचारी चयन आयोग के माध्यम से उप-निरीक्षकों के 2,534 पद और संघ लोक सेवा आयोग के माध्यम से सहायक कमांडेंट के 330 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चल रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पंजाबः कृषि बिल का विरोध कर रहे किसान, बहस में कूदीं कंगना रनौत ने बता दिया ‘आतंकी’
2 RS में हंगामा: कैमरे का फोकस “चेयर” पर था तो सांसदों ने मोबाइल से रिकॉर्ड कर वायरल की क्लिप
3 हर चार में से तीन कंपनियों को मिल जाएगा कर्मचारियों को किसी भी क्षण निकालने का अधिकार- मोदी सरकार के प्रस्तावित क़ानून से बढ़ी चिंता
यह पढ़ा क्या?
X