ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार के जनादेश पर असहिष्णुता दिखा रहा विपक्ष: वेंकैया नायडू

बढ़ती असहिष्णुता को लेकर आलोचनाओं को झेल रहे केंद्र ने कहा है कि उसके दायरे के बाहर हो रही घटनाओं के लिए नरेंद्र मोदी सरकार को दोषी ठहराने का दुष्प्रचार..

Author नई दिल्ली | October 29, 2015 1:05 AM
केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू। (पीटीआई फाइल फोटो)

बढ़ती असहिष्णुता को लेकर आलोचनाओं को झेल रहे केंद्र ने कहा है कि उसके दायरे के बाहर हो रही घटनाओं के लिए उसको दोषी ठहराने का दुष्प्रचार अभियान चलाया जा रहा है। उसने विपक्ष पर मोदी सरकर को मिले जनादेश के प्रति असहिष्णुता दिखाने का आरोप लगाया।

दादरी घटना और गोमांस विवाद को लेकर आलोचनाओं को झेल रही सरकार का मजबूती से बचाव करते हुए केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि कुछ लोग गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं और कुछ गुमराह हैं। उन्होंने दलील दी कि पहले भी ऐसी घटनाएं हुई हैं और सरकार ने उनकी भर्त्सना की थी। गोमांस व अन्य मुद्दों को लेकर विवाद कुछ अंग्रेजी मीडिया तक सीमित है और अन्य लोगों को इसकी बिल्कुल भी परवाह नहीं है।

नायडू ने कहा कि इन सब चीजों के लिए सरकार की कोई गलती नहीं है। कानून व्यवस्था राज्य का विषय है। कोई व्यक्ति पक्षपाती कैसे हो सकता है और उप्र में जो हो रहा, कर्नाटक में जो हो रहा है उसके लिए भारत सरकार की आलोचना कैसे कर सकता है। वे इन सब चीजों से प्रधानमंत्री को कैसे जोड़ सकते हैं, मैं समझने में अक्षम हूं। यह दुष्प्रचार अभियान चल रहा। मैं केवल यही कहूंगा कि कुछ गुमराह हैं और कुछ लोग प्रचार के लिए गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। 120 करोड़ के इस देश में ऐसी घटनाएं पहले भी होती थीं, वे अभी हाल में हुई हैं और वे भर्त्सना योग्य हैं। पार्टी ने उनकी भर्त्सना की थी। सरकार ने उनकी भर्त्सना की है और प्रधानमंत्री स्वयं इस बारे में कड़ाई से बोले हैं।

कथित रूप से बढ़ती असहिष्णुता के लिए सरकार को दोषी ठहराने वालों पर पलटवार करते हुए नायडू ने कटाक्ष करते हुए हुए कहा कि यह सत्य है कि असहिष्णुता बढ़ रही है और यह उनके बीच है जो चुनाव हारे थे। कांगे्रस इस सच्चाई को पचा नहीं पा रही है कि उन्होंने सत्ता खो दी है। वे जनादेश को लेकर अधिकाधिक असहिष्णु बनते जा रहे हैं। लोगों ने नरेंद्र मोदी को स्पष्ट जनादेश दिया है। ये लोग नहीं चाहते कि संसद काम करे। विपक्षी दल नहीं चाहता कि वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छा काम करें।

उन्होंने केरल हाउस में गोमांस परोसे जाने की शिकायत के बाद दिल्ली पुलिस के वहां प्रवेश करने को लेकर केरल के मुख्यमंत्री ओमान चांडी की आलोचना को भी खारिज करते हुए कहा कि यदि कोई यह सूचना देता है कि किसी विशिष्ट जगह पर अप्रिय घटना होने वाली है तो क्या यह पुलिस की जिम्मेदारी नहीं है कि वह उसकी देखभाल करे। पुलिस वहां गई, पूछताछ की और वापस लौट आई। उन्होंने यह भी कहा कि एक दक्षिणपंथी संगठन के विरोध जताए जाने के बाद पुलिस वहां गई थी।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App