ताज़ा खबर
 

करतारपुर गलियारा: पाक फौज की बयानबाजी पर बिफरा भारत

गफूर का बयान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की टिप्पणी के अनुसार ही है, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि भारतीय मीडिया ने करतारपुर सीमा खोलने का राजनीतिकरण किया और इसे ऐसे पेश किया जैसे पाकिस्तान ने राजनीतिक लाभ लेने के लिए ऐसा किया है।

पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा कि करतारपुर सीमा खोलने का अर्थ यह नहीं कि हम कश्मीर के मुद्दे से पीछे हटेंगे। कश्मीर पर हमारी नीति जारी रहेगी। (Reuters File Photo)

करतारपुर गलियारा परियोजना को लेकर अब पाकिस्तानी सेना ने बयानबाजी शुरू कर दी है, जिस पर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया जताई है। पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा कि करतारपुर सीमा खोलने का अर्थ यह नहीं कि हम कश्मीर के मुद्दे से पीछे हटेंगे। कश्मीर पर हमारी नीति जारी रहेगी। दूसरे, करतारपुर कॉरिडोर वन-वे होगा। इससे पाकिस्तान के सिखों को भारत जाने की इजाजत नहीं होगा। गफूर से इस बयान पर विदेश मंत्रालय ने स्पष्ट कहा कि पाकिस्तान की सरकार और सेना करतारपुर और कश्मीर का घालमेल न करे। दोनों मुद्दे अलग हैं। इन मुद्दों पर पाकिस्तान भावनाएं भड़काने की कोशिश न करे। गलियारा परियोजना के शिलान्यास के दौरान करतारपुर में भारतीय प्रोटोकाल अफसर को भीतर नहीं जाने देने का मुद्दा उठाया। विदेश मंत्रालय ने इस बारे में पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय को प्रतिवाद पत्र भेजा है। प्रवक्ता के मुताबिक, करतारपुर में कार्यक्रम के दौरान प्रोटोकाल अधिकारियों को भारत से वहां पहुंचे कैबिनेट मंत्रियों के साथ होना चाहिए था, लेकिन उन्हें अंदर जाने नहीं दिया गया।

पाकिस्तानी सेना की जनसंपर्क इकाई आइएसपीआर की ओर से जारी बयान में मेजर जनरल गफूर ने कहा कि करतारपुर गलियारा वन-वे होगा। पाकिस्तान के सिख इस गलियारे का इस्तेमाल कर भारत नहीं आ सकेंगे। इसके अलावा करतारपुर जाने वाले भारत के सिख श्रद्धालुओं को करतारपुर के अंदर ही रहना होगा। भारत से जाने वाले श्रद्धालुओं को कॉरिडोर से बाहर जाने पर मनाही होगी। पाक सेना के मुताबिक गलियारे को बनाने में छह महीने का वक्त लगेगा। गलियारा तैयार हो जाने के बाद एक दिन में चार हजार सिख श्रद्धालु रोजाना यहां आ सकेंगे। अपने बयान में मेजर जनरल आसिफ गफूर ने आरोप लगाया कि करतारपुर गलियारे पर पाकिस्तान के प्रयासों को भारतीय मीडिया ने नकारात्मक अंदाज में पेश किया।

गफूर का बयान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की टिप्पणी के अनुसार ही है, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि भारतीय मीडिया ने करतारपुर सीमा खोलने का राजनीतिकरण किया और इसे ऐसे पेश किया जैसे पाकिस्तान ने राजनीतिक लाभ लेने के लिए ऐसा किया है। पाकिस्तान सेना के बयान के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने टिप्पणी की कि आस्था से जुड़े इस मुद्दे पर पाकिस्तान ने राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश की। प्रवक्ता ने उम्मीद जताई कि इस परियोजना को लेकर पाकिस्तान ने जो वादा किया है, उसे पूरा करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App