ताज़ा खबर
 

प्रद्युम्‍न की क्‍लास में आए सिर्फ 4 बच्‍चे- मर्डर के बाद पहली बार खुला गुरुग्राम का रेयान स्‍कूल

अपने बच्चे को आज स्कूल लेकर आए एक पिता का कहना था कि वह आज यहां स्कूल से अपने बच्चे का नाम कटवाने के लिए आए हुए हैं। उन्होंने कहा कि मुझे पता है कि स्कूल वह करेगा जो सही होगा, लेकिन फिलहाल मेरा बेटा यहां पर आने से काफी डरा हुआ है।
Author नई दिल्ली | September 18, 2017 13:03 pm
इस मामले की जांच सीबीआई के हवाले कर दी गई है।

गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात साल के मासूम प्रद्युम्न की हुई नृशंस हत्या के 10 दिन बाद पहली बार स्कूल खुला है। प्रद्युम्न की क्लास में केवल 4 बच्चे ही आए हैं। एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, इन चार बच्चों में से दो बच्चे अपने पैरेंट्स को साथ स्कूल पहुंचे। प्रद्युम्न की क्लास के अलावा पूरे स्कूल में ही बच्चों की उपस्थिति बहुत कम है। इससे यह साफ जाहिर होता है कि रेयान इंटरनेशनल स्कूल में प्रद्युम्न की हत्या के बाद बच्चे और उनके पैरेंट्स सुरक्षा को लेकर अभी भी काफी डरे हुए हैं।

अपने बच्चे को आज स्कूल लेकर आए एक पिता का कहना था कि वह आज यहां स्कूल से अपने बच्चे का नाम कटवाने के लिए आए हुए हैं। उन्होंने कहा, “मुझे पता है कि स्कूल वह करेगा जो सही होगा लेकिन फिलहाल मेरा बेटा यहां पर आने से काफी डरा हुआ है। मैंने उससे अपनी 5वीं क्लास की पढ़ाई यहीं पर जारी रखने को कहा लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं है। ऐसे में स्कूल के मिड-टर्म में उसके लिए नया स्कूल ढूंढना भी काफी मुश्किल होगा।”

वहीं दूसरी तरफ, अपने बच्चे को आज स्कूल लेकर आए सुभाष गर्ग अपनी बातों से थोड़ी हिम्मत दिखा रहे हैं। उन्होंने कहा, “यहां पर भारी तादात में पुलिस और सिक्योरिटी पर्सन्स हैं, इसलिए डरने की कोई जरूरत नहीं है। स्कूल का प्रशासन अब राज्य सरकार के नियंत्रण में ले लिया गया है।” जबकि, पहली क्लास में पढ़ने वाले एक और बच्चे का मां शशि का कहना है कि वह डरी हुई हैं। उन्होंने कहा, “मैं अपने बच्चे स्कूल नहीं भेज रही हूं। मुझे स्कूल के प्रशासन पर अब किसी भी तरह का भरोसा नहीं है।”

बता दें कि गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में शुक्रवार (8 सितंबर) को सात साल के बच्चे प्रद्यूम्न की हत्या हो गई थी। हत्या का आरोप बस कंडक्टर पर लगया गया था। उसके बाद स्कूल के बाहर प्रद्यूम्न के माता-पिता के साथ-साथ बाकी पेरेंट्स ने भी स्कूल के बाहर हंगामा किया। हंगामा कर रहे लोगों का कहना था कि कंडक्टर को फंसाया जा रहा है जबकि असल बात कुछ और ही है। प्रदर्शन में हिंसा भी हुई जिसमें पुलिसवालों ने डंडे भी चलाए थे। फिलहाल इस मामले की जांच सीबीआई के हवाले कर दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.