ताज़ा खबर
 

सरकारी स्कूल के गरीब बच्चों के लिए ऑनलाइन पढ़ाई टेढ़ी खीर, कई बच्चों के पास मोबाइल, लैपटॉप और कंप्यूटर नहीं

शिक्षकों के मुताबिक जब तक बच्चे सीधे तौर पर कक्षा से नहीं जुड़ पाएंगे तब तक उनको वास्तविक अध्ययन देने में परेशानी होगी। ऑनलाइन तैयार किए गए गु्रप में भी चंद बच्चे ही सक्रिय हो पा रहे हैं बाकि बच्चे तकनीकी परेशानियां बता रहे हैं, जो इन कक्षाओं की सफलता की राह में रोड़ा बन रही है।

गरीब बच्चों के पास लैपटॉप, मोबाइल या कंप्यूटर नहीं होने से ऑनलाइन पढ़ाई में दिक्कतें आ रही हैं।

कोरोना संकट ने बच्चों के लिए आनलाइन पढ़ाई का रास्ता जरूर खोल दिया है। लेकिन केवल इससे ही पढ़ने की राह आसान नहीं हो पाई है। दिल्ली सरकार के स्कूलों में बड़ी संख्या में गरीब परिवारों के बच्चे पढ़ रहे हैं और इन बच्चों के लिए परिवार के पास मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर नहीं होना पढ़ाई में रोड़ा डाल रहा है। ये तकनीकी परेशानियां शिक्षकों को भी परेशान कर रही हैं। दिल्ली में कोरोना काल के बीच बच्चों की पढ़ाई बाधित नहीं हो। इसके लिए दिल्ली सरकार ने आनलाइन पढ़ाई का रास्ता निकाला है।

इसके लिए दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ने वाले अध्यापकों की मदद ली जा रही है। इन शिक्षकों ने अपने-अपने वाट्सऐप गु्रप बना लिए हैं। परिवारों की तरफ से जो नंबर दिए गए हैं। उनमें तकनीकी परेशानी यह है कि फोन में वाट्सऐप तक उपलब्ध नहीं है। इसके अतिरिक्त बच्चों के परिवार के सदस्य जैसे पिता व भाई बाहर ही रहते हैं। इसलिए आनलाइन शिक्षा में छात्रों को परेशानी हो रही है।

दिल्ली सरकार के स्कूल में कार्यरत शिक्षक ने बताया कि इन बच्चों के लिए अब तक जो वर्कशीट भेजी जा रही है। इस शीट पर काम होने की वजह से परेशानी यह है कि बच्चों का जो सामान्य कोर्स है वह लटक जाएगा।
इसके लिए अब कई शिक्षकों ने बच्चों के लिए आडियो रिकार्डिंग क्लास की मदद से पढ़ाई शुरू करने का रास्ता भी तलाशा है। लेकिन यह रास्ता अभी विद्यालयों की तरफ से नहीं लिया गया है।

शिक्षकों के मुताबिक जब तक बच्चे सीधे तौर पर कक्षा से नहीं जुड़ पाएंगे तब तक उनको वास्तविक अध्ययन देने में परेशानी होगी। आॅनलाइन तैयार किए गए गु्रप में भी चंद बच्चे ही सक्रिय हो पा रहे हैं बाकि बच्चे तकनीकी परेशानियां बता रहे हैं, जो इन कक्षाओं की सफलता की राह में रोड़ा बन रही है।

खान अकादमी से होगी कक्षा 9 व 10 की कक्षा : दिल्ली सरकार ने खान अकादमी की मदद से कक्षा 9 व 10 की पढ़ाई का फैसला लिया है। इस व्यवस्था को लागू करने के लिए मंगलवार को ही शिक्षा निदेशालय की तरफ से आदेश जारी किया गया है। आदेशों में कहा गया है कि इन कक्षाओं में बच्चों को गणित व विज्ञान की कक्षाएं दी जाएंगी।

बच्चों के आनलाइन अकाउंट की सूचना भी एसएमएस के माध्यम से भेजी जाएगी। बाद में इन कक्षाओं का लिंक सभी बच्चों को भेजा जाएगा ताकि वे आसानी से अपना अध्ययन शुरू कर सकें। इन आदेशों की प्रति शिक्षा निदेशालय के सभी जोन में भेजी गई है।

Next Stories
1 राजा मानसिंह हत्याकांड: पूर्व पुलिस उपाधीक्षक सहित 11 दोषी करार
2 बिहार: भागलपुर की विशेष केंद्रीय जेल में कैदियों में घबराहट, चार बंदियों की मौत के बाद जांच में पॉजिटिव मिले हैं नमूने
3 22 जुलाई का इतिहास: आज ही के दिन 2019 में चंद्रयान-2 को श्रीहरिकोटा स्थित अंतरिक्ष केंद्र से किया गया था रवाना
ये पढ़ा क्या?
X