ताज़ा खबर
 

संसद में उठी देवरिया में बच्चियों के यौन उत्पीड़न की गूंज, गृह मंत्री बोले- किसी को नहीं बख्शेंगे

उत्तर प्रदेश के देवरिया में बाल गृह में बच्चियों से कथित यौन उत्पीड़न की खबरों पर विपक्ष के प्रहार के बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज जोर देते हुए कहा कि इस घटना में शामिल किसी अपराधी को बख्शा नहीं जायेगा और राज्य सरकार इस मामले में तेजी से कार्रवाई कर रही है।

Author August 7, 2018 5:48 PM
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह। (फोटो सोर्स एएनआई/फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के देवरिया में बाल गृह में बच्चियों से कथित यौन उत्पीड़न की खबरों पर विपक्ष के प्रहार के बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज जोर देते हुए कहा कि इस घटना में शामिल किसी अपराधी को बख्शा नहीं जायेगा और राज्य सरकार इस मामले में तेजी से कार्रवाई कर रही है। लोकसभा में गृह मंत्री ने कहा, ‘‘ इस प्रकार की घटना कहीं भी घटे, वह दुखद, दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मनाक है। शून्यकाल में समाजवादी पार्टी, राजद और कांग्रेस के सदस्यों ने देवरिया बाल गृह की घटना को उठाया और सरकार से ऐसी जघन्य घटना की निष्पक्ष जांच कराने एवं दोषियों को सख्त सजा देने की मांग की। इस विषय पर राजनाथ सिंह ने कहा, ‘‘ किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जायेगा।’’ उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से 10 साल की बच्ची ने इस मामले में बयान दर्ज कराया। मैं इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार को बधाई देता हूं कि तुरंत संबंधित अधिकारियों की बैठक बुलाई और त्वरिक कार्रवाई की। इस मामले में जिला प्रशासनिक अधिकारी को निलंबित किया गया।

गृह मंत्री ने कहा कि बाल गृह की संचालिका और उसके पति को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच अतिरिक्त मुख्य सचिव और डीजी स्तर के अधिकारी कर रहे हैं। गृह मंत्री ने कहा कि इस तरह की घटनाओं के संबंध में हम संबंधित मंत्रालयों से कह रहे हैं कि वे राज्यों को परामर्श जारी करें। इससे पहले शून्यकाल में इस विषय को उठाते हुए समाजवादी पार्टी के धर्मेन्द्र यादव ने कहा कि बिहार के मुजफ्फरपुर की घटना के बाद अब उत्तर प्रदेश के देवरिया में ऐसी घटना सामने आई है। वहां बालिका गृह में 18 बच्चियां गायब हैं और वहां यौन उत्पीड़न की खबरें सामने आई हैं। बच्चियों का शोषण और उन पर अत्याचार हुआ है।

उन्होंने कहा कि यह संवेदनशील मुद्दा है, उत्तर प्रदेश सरकार मौन है । यादव ने कहा कि इस मामले में दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। देश के अंदर सभी बाल गृहों की जांच करायी जाए । देवरिया से भाजपा सांसद कलराज मिश्रा ने कहा कि उक्त बाल गृह का संचालन एक स्वैच्छिक संगठन करता था। साल भर पहले उसका लाइसेंस निरस्त हो गया। इसके बाद लड़कों, लड़कियों को वहां से हटाने की प्रक्रिया शुरू हुई। इसके बाद वह स्वैच्छिक संगठन अदालत चला गया।

उन्होंने कहा कि इस बीच एक लड़की ने इस प्रकार की घटना का जिक्र किया। इसके बाद तत्काल उत्तर प्रदेश सरकार ने कार्रवाई की।  कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि इस मामले में राजनीति करने की जरूरत नहीं है। यह गंभीर मामला है। ऐसे में सदन की एक समिति बनाई जाए और जहां जहां ऐसी घटनाएं समने आएं, वह इसकी जांच करे।
राजद के जयप्रकाश नारायण यादव ने कहा कि ऐसी घटनाओं से देश दुनिया में नाम खराब हुआ है। ऐसे मामले में साक्ष्य मिटाने के प्रयास भी हो रहे हैं। इससे पहले आज सुबह सदन की बैठक शुरू होते ही सपा, राजद और माकपा के सदस्य बैनर दिखाते हुए देवरिया मामले को उठाने लगे। तब लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि इस तरह से करना ठीक नहीं है। प्रश्नकाल चलने दें। शून्यकाल में वह बोलने का अवसर देंगी। इसके बाद हंगामा कर रहे सदस्य बैठ गये। इस विषय पर समाजवादी पार्टी और राजद सदस्यों ने आज संसद भवन परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष धरना प्रदर्शन भी किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App