ताज़ा खबर
 

शहीद दिवस पर बीजेपी सांसद गौतम गंभीर का तंज भरा ट्वीट- याद रहे आज़ादी सिर्फ़ घूमते चरखों ने नहीं, फांसी पर झूलते दीवानों ने भी दिलवाई है!

शैलेंद्र प्रताप ने गौतम पर तंज कसते हुए लिखा, सावरकर वाली फोटो शोभा देता है वही लगाओ गौती जी मालिक नाराज हो जाएंगे। इन्हीं झूलते दीवानों की पीढ़ी आज अपने वजूद को बचाने के लिए सिंधू और गाज़ीपुर बॉर्डर पर रोड पर है और आपके मालिक 300 से ज्यादा मौतों के जिम्मेदार हैं।

gautam gambhir, delhi mp, bjp mpबीजेपी सांसद गौतम गंभीर (फोटोःट्विटर@gautamgambhir)

बीजेपी के सांसद गौतम गंभीर ने शहीद दिवस पर तंज भरा ट्वीट करके कहा, याद रहे आज़ादी सिर्फ़ घूमते चरखों ने नहीं, फांसी पर झूलते दीवानों ने भी दिलवाई है! दरअसल, गौतम का इशारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तरफ था। उनके ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली। कुछ ने सांसद को नसीहत दी तो कुछ को उनके विचार पसंद भी आए।

प्रदीप यादव के हैंडल से ट्वीट किया गया, अरे भाई साहब आप लोगों को ऐसा क्यो लगता है कि…सिर्फ किसी को नीचा दिखाकर सामने वाले को ऊपर कर सकते हैं…ये सभी लोग ग्रेट लीजेंड हैं…तुमको बोलने की जरूरत नहीं…तुम बस चापलूसी करो। मुश्ताक आलम ने लिखा, …की हद होती है सबको मालूम है अब क्या बोले। सन्नी ने लिखा, संघी बलिदान और स्वतंत्रता को कभी नहीं जान पाएंगे। अमित शर्मा का कहना था, और उनमें से एक भी संघी नहीं था।

म.न. कासमी ने लिखा, ये भी याद रखें अगर मुसलमान न होता तो देश कभी आजाद न होता। राजीव गुप्ता का कहना था कि ये भी याद रहे कि इन्होंने माफी मांगने की बजाए फांसी पर झूलना चुना था। एक बार ये भी पढ़ लेना कि ये कैसे मुल्क चाहते थे। बस फोटो लगा दी हो गया शहीदी दिवस। क्राइम मास्टर गोगो के हैंडल से ट्वीट किया गया, बात केवल चरखे की होती है।

शैलेंद्र प्रताप ने गौतम पर तंज कसते हुए लिखा, सावरकर वाली फोटो शोभा देता है वही लगाओ गौती जी मालिक नाराज हो जाएंगे। इन्हीं झूलते दीवानों की पीढ़ी आज अपने वजूद को बचाने के लिए सिंधू और गाज़ीपुर बॉर्डर पर रोड पर है और आपके मालिक 300 से ज्यादा मौतों के जिम्मेदार हैं बोलिये अहं छोड़ बात करे और काले कानून वापस लें।

गांव का देहाती छोरा के हैंडल से ट्वीट किया गया, आपको चरखे से इतनी नफरत क्यों है। आप ये भी बोल सकते हो कि आजादी माफी मांगने से नहीं फांसी पर झूलने से मिली है। अच्छा है के हैंडल से ट्वीट करके कहा गया कि गौतम के स्टेटमेंट में केवल एक शब्द चेंज करना है, याद रहे आजादी सिर्फ घूमते चरखों ने नहीं फांसी पर झूलते दीवानों ने ही दिलवाई है। सुरेश शर्मा ने एक कदम आगे जाते हुए लिखा, स्मृति ईरानी जी को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं।

हालांकि, कुछ लोगों ने गौतम के ट्वीट को लाइक भी किया। नेशनल ब्वाय के हैंडल से लिखा गया, यस करेक्ट। जिया और श्याम पारिक ने गौतम के ट्वीट को लाइक करते हुए शहीदों को नमन किया। कनिष्क मिश्रा ने लिखा, एक्सलेंट प्वाइंट सर। आनंद के हैंडल से ट्वीट किया गया, मेरी कलम इस तरह वाकिफ है मेरे जज़्बातों से, अगर में इश्क भी लिखना चाहूं तो इंकलाब ही लिखा जाता है। सुखदेव —भगत—राज गुरु : भारत माता के लाल
शहीदी दिवस मार्च २३, १९३१, लहोर भारत ।।

Next Stories
1 UGC द्वारा ड्राफ्ट किए गए इतिहास के नए सिलेबस पर उठे सवाल, भगवाकरण के लगे आरोप
2 उत्तराखंड में मंदिर सरकार के अधीन, पर तमिलनाडु के चुनावी घोषणापत्र में बोली भाजपा- सरकारी नियंत्रण से मुक्त कराएंगे धार्मिक स्थल
3 राम कदम जी बहुत अच्छा मौका है सब साफ करने के लिए, परमबीर पर डिबेट में BJP नेता से बोले अर्नब गोस्वामी
आज का राशिफल
X