ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी के आह्वान पर सियासी रार, महाराष्ट्र के बिजली मंत्री की उल्टी अपील- सारे लोग न करें बत्ती गुल!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो मैसेज के जरिए लोगों से अपील की वे 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर के दीये, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं।

महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत। (फोटो-एएनआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में देशवासियों से अपील की थी कि वे 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर दीये, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं और अंधकार को प्रकाश से चुनौती दें। प्रधानमंत्री की इस अपील पर बिजली कंपनियों की परेशानी बढ़ गई है। कई राज्य सरकारों ने इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड्स को निर्देश जारी कर बिजली व्यवस्था संभालने के लिए कहा है। इस बीच कुछ नेताओं ने भी प्रधानमंत्री की अपील पर सवाल उठाए हैं। महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री और शिवसेना नेता नितिन राउत ने राज्य के लोगों से अपील की है कि वे सभी लाइटों को एक साथ बंद न करें।

राउत ने कहा, “लोग दीये जलाएं, लेकिन घरों की बिजली न बंद करें। उन्होंने कहा कि इससे ग्रिड फेल हो सकती है और सभी इमरजेंसी सेवाएं फेल हो जाएंगी। ऐसे में व्यवस्था ठीक करने में एक हफ्ते का समय लग सकता है।”

राउत ने आगे कहा, “अगर सभी लाइटों को एक साथ बंद कर दिया जाएगा, तो ब्लैकआउट हो सकता है। कोरोनावायरस से लड़ाई के समय बिजली एक अहम जरूरत है। ब्लैकआउट से इमरजेंसी सेवाओं पर बुरा असर पड़ सकता है।” उन्होंने तर्क देते हुए कहा कि अगर सभी लाइट एक साथ बंद हुईं, तो डिमांड और सप्लाई की व्यवस्था में बड़ा फर्क पैदा हो सकता है। लॉकडाउन की वजह से पहले ही बिजली की सप्लाई 23 हजार मेगावॉट से घटकर 13 हजार मेगावॉट रह गई है, क्योंकि कई बड़ी फैक्ट्रियों में काम नहीं हो रहे।

क्यों फेल हो सकती है ग्रिड?
पावर ग्रिड के संतुलित और स्थिर रहने के लिए जरूरी है इससे होने वाली बिजली की खपत एक तय फ्रीक्वेंसी में हो। यह फ्रीक्वेंसी है 49.95 से 50.05 हर्ट्ज तक। अगर बिजली की खपत अचानक से बढ़ती या कम होती है, तो इस फ्रीक्वेंसी में बदलाव आता है और ग्रिड अस्थिर होकर फेल हो जाती है। देशभर के बिजली विभागों की चिंता है कि जब देश में सभी लोग अचानक से लाइट बंद करेंगे तो बिजली की खपत में 10 फीसदी तक की कमी आएगी, जिससे ग्रिड फेल होने का खतरा होगा।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

पश्चिम बंगाल ने शुरू की बिजली व्यवस्था बनाए रखने की तैयारी
प्रधानमंत्री मोदी की लाइट बंद करने की अपील पर पश्चिम बंगाल पावर डिपार्टमेंट ने सप्लाई बनाए रखने की तैयारी शुरू कर दी है। बिजली विभाग के मुताबिक, ग्रिड फेल होने के डर के बीच बैकअप सप्लाई की तैयारी कर ली गई है। बंगाल के ऊर्जा मंत्री सोवनदेब चट्टोपाध्याय ने कहा, “मैंने अपने विभाग के अधिकारियों और इंजीनियरों से इस मसले पर बात की है और किसी गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए बैकअप पावर तैयार रखने के आदेश दिए हैं।”

Next Stories
1 ‘क्यों व्यर्थ की चिंता करती हो, बस दीया जलाओ’ प्रियंका गांधी ने बिजली सप्लाई पर जताई चिंता तो हो गईं ट्रोल
2 पीएम की बत्ती बुझाओ अपील से चरमरा सकती है बिजली वितरण व्यवस्था, जानें- यूपी, गुजरात समेत अन्य राज्यों की क्या है तैयारी?
3 ‘हमने पांच हफ्ते गंवा दिए’, कोरोना से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने वालों ने केंद्र सरकार पर लगाए गंभीर आरोप
ये पढ़ा क्या?
X