ODD-EVEN पर बीजेपी में ही फूट! प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी बोले- पार्टी लाइन के मुताबिक नहीं था विजय गोयल का ‘SUV विरोध’

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के साथ बातचीत में दिल्ली बेजीपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा, “यह आधिकारिक तौर पर पार्टी की लाइन नहीं थी।

ऑड-ईवन पर दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष ने विजय गोयल के विरोध से किनारा कर लिया। (फोटो सोर्स: द इंडियन एक्सप्रेस)

दिल्ली में जारी ऑड-ईवन (ODD-EVEN) का बीजेपी विरोध कर रही है, लेकिन पार्टी के भीतर विरोध के तौर-तरीकों पर ही मतभेद दिखाई दे रहे हैं। पार्टी के भीतर फूट तब उजागर हो गई, जब बीजेपी के राज्यसभा सांसद विजय गोयल ने अपने SUV के जरिए ऑड-ईवन योजना उल्लंघन किया। गोयल ने आईटीओ तक इस नियम का विरोध किया, लेकिन दिल्ली बीजेपी ने उनके इस तरीके से खुद को अलग कर लिया है।

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के साथ बातचीत में दिल्ली बेजीपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा, “यह आधिकारिक तौर पर पार्टी की लाइन नहीं थी। यह उनके निजी विरोध का तरीका था। तिवारी ने कहा कि पार्टी ऑड-ईवन के विरोध में है।” उन्होंने कहा कि इसकी बजाय दिल्ली में पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सुधार किया जाना चाहिए था। वहीं, बीजेपी के सूत्रों का भी कहना है कि वरिष्ठ नेतृत्व भी विरोध के तरीके पर बंटा हुआ दिखाई दिया।

हालांकि, गोयल को इस विरोध प्रदर्शन में बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पार्टी के दिल्ली प्रभारी श्याम जाजू का भी समर्थन मिला था। वह भी गोयल के साथ एसयूवी में सवार थे। लेकिन, इन सबके बीच केंद्रीय मंत्री समेत कई वरिष्ठ नेता नाराज बताए जा रहे हैं। गोयल के विरोध के दौरान ट्रैफिक उल्लंघन के मामले में उन पर 4000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया। उन्होंने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया, “एक नागरिक के तौर पर मैंने ऑड-ईवन स्कीम का विरोध किया है।” मेरे स्टैंड को सुप्रीम कोर्ट ने भी दोषमुक्त माना है।”

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को इस योजना के पीछे के तर्क पर सवाल उठाया था। इस बीच मनोज तिवारी ने कहा कि उनकी पार्टी ऑड-ईवन का विरोध जारी रखेगी। उन्होंने कहा, “2011 में 6,000 से अधिक डीटीसी बसों की संख्या अब घटकर लगभग 3,500 से हो गई है। AAP नेताओं ने प्रदूषण के लिए पराली जलाने को दोषी ठहराया, लेकिन कई एजेंसियों ने कहा है कि स्थानीय कारक प्रमुख रूप से जिम्मेदार हैं”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट