ताज़ा खबर
 

योगेश्वर दत्त बोले- हाथ-पैर बांध दिए तो चिंता हो गई जब सेना पर पत्थरबाजी होती है तो क्यों नहीं होते परेशान

जम्मू कश्मीर में आर्मी जिस शख्स को अपनी जीप के आगे बांधकर परेड करती नजर आ रही थी उस शख्स की पहचान हो गई है। जिस शख्स के साथ वह सब हुआ उसका नाम फारुख अहमद डार है।

सेना के सपोर्ट में आए पहलवान योगेश्वर दत्त। (FILE Photo)

जम्मू-कश्मीर में युवक को कथित तौर पर सेना द्वारा गाड़ी के आगे बांधकर घूमाने का वीडियो सामने आया। जिसको लेकर प्रतिक्रियाएं सामने आने लगी है। ओलंपिक मेडल विजेता पहलवान योगेश्वर दत्त ने भारतीय सेना के समर्थन में ट्वीट किए। उन्होंने सेना के समर्थन में और सेना पर हमला करते हुए ट्वीट किया। दत्त ने लिखा- बाढ़ से बचाओ, फिर पत्थर खाओ तब तक कुछ लोगों को परेशानी नहीं है अब जब सेना ने मारा नहीं बस हाथ-पैर बाँध दिए तो चिंताजनक स्थिति हो गई। इससे पहले सेना पर कश्मीरी युवकों द्वारा हमला करने का वीडियो सामने आने पर पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भी निशाना साधा था।

योगेश्वर दत्त ने अपने ट्वीट में लिखा- “जो लोग पूछ रहे हैं कि कौन कितनी बार कश्मीर गया है तो बता दूं, एसी रूम में बैठ कर सनसनी नही फैलाते, हरियाणा के हर घर से एक सेना में जाता है।” योगेश्वर ने आगे लिखा- “जब ऐसी स्थिति देखते है तो पड़ोस के बचपन के साथियों के लिए मन ख़राब होता है।देश के सम्मान बचाते हुए अपना मानमर्दन हो रहा है।”

जिस शख्स को जीप के आगे बांधकर परेड कराई जा रही थी उस शख्स की पहचान हो गई है। जिस शख्स के साथ वह सब हुआ उसका नाम फारुख अहमद डार है। 26 साल के फारुख ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वह पत्थर फेंकने वालों में शामिल नहीं है। उसने कहा, ‘मैं कभी भी पत्थर नहीं फेंके, मैंने अपनी पूरी जिंदगी में पत्थर नहीं उठाया, मैं तो शॉल पर कढ़ाई करने का काम करता हूं, साथ ही थोड़ी बहुत कारपेंट्री करता हूं। मुझे बस यही आता है।’ फारुख ने बताया कि उसकी छाती पर एक सफेद कागज लगाकर उसपर फारुख का नाम लिखा गया था। साथ ही जीप में बैठे आर्मीवाले चिल्ला रहे थे कि अब अपने किसी पर पत्थर फेंक कर दिखाओ।

घाटी का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। वीडियो में जवान एक आम शख्स को अपनी गाड़ी के बाहर बांधकर ले जा रहे हैं। वीडियो के साथ कहा जा रहा है कि सेना के लोगों ने अपने ऊपर फेंके जाने वाले पत्थरों से बचने के लिए उसको गाड़ी से बांधा हुआ है। बताया जा रहा है कि वीडियो में जो जीप दिख रही है वह बडगाम में हुए उपचुनाव के बाद कश्मीर के इलाके में घूम रही थी। आर्मी प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि वीडियो की जांच की जा रही है। वीडियो में एक सैनिक चिल्लाते हुए भी दिख रहा है। वह कह रहा है कि जो लोग पत्थर फेंकेंगे उनका भी ऐसा ही हाल किया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App