आसमान में तेल-गैस के दामः बोले बिहार CM नीतीश कुमार- कोरोना के कारण बढ़ी कीमतें, बेवजह न हो अधिक बहस

नीतीश कुमार ने कहा कि अभी पहली वरीयता कोरोना से मुक्ति है। इस कारण तो कुछ दाम बढ़ेगा ही कोई क्या कर सकता है? अभी ये मान लेना कि सबकुछ ठीक हो गया है ये गलत है।

Nitish kumar, bihar, petrol, diesel
तेल-गैस के दाम को लेकर नीतीश कुमार ने बयान दिया है (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)

देश में लगातार बढ़ती महंगाई के बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि कोरोना महामारी की वजह से दाम बढ़े हैं, इस पर बेवजह ज्यादा बहस नहीं होनी चाहिए। नीतीश कुमार पत्रकारों द्वारा पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमत बढ़ने को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे।

नीतीश कुमार ने कहा कि अभी पहली वरीयता कोरोना से मुक्ति है। इस कारण तो कुछ दाम बढ़ेगा ही कोई क्या कर सकता है? अभी ये मान लेना कि सबकुछ ठीक हो गया है ये गलत है। अभी जब तक ये पूरा खत्म नहीं हो जाता है तब तक कुछ भी कहना जल्दी है। जैसे ही ये खत्म होगा उसके बाद विकास कार्य तेजी से होगा। वैसे हमलोगों की तरफ से प्रयास जारी है। मुझे नहीं लगता है कि इन चीजों को लेकर बेवजह ज्यादा बहस नहीं होना चाहिए। ये स्वाभाविक है, इसे लेकर सबको एकजुट रहना चाहिए।

नीतीश कुमार ने जातीय जनगणना की अपनी मांग को दोहराते हुए सोमवार को कहा कि देश के विभिन्न राज्यों से इसकी मांग उठ रही है। ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम के बाद पत्रकारों द्वारा जातीय जनगणना को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कुमार ने कहा, ‘‘ इसको लेकर हमलोगों ने एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के साथ प्रधानमंत्री से मिलकर अपनी बातों को रख दिया है। इसके संबंध में सभी बातें पहले ही मीडिया के सामने रख दी गई है। अब निर्णय लेना केंद्र सरकार का काम है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ देश में अभी जनगणना की शुरुआत नहीं हुई है। देश के विभिन्न राज्यों से इसकी मांग उठ रही है। अभी कुछ भी सामने नहीं आया है। ऐसे में अभी इस पर कुछ भी नहीं कहा जा सकता है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया की खबरों में यह बात सामने आ रही है कि सभी राज्यों के लोग जातीय जनगणना की मांग कर रहे हैं, क्योंकि ये देश के हित में है और इससे सभी को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि जातीय जनगणना होने से समाज के वैसे वर्ग के संबंध में जानकारी मिलेगी जिनको आगे बढ़ाने की जरुरत है । उन्होंने कहा, ‘‘हमलोग इसको लेकर हमेशा अपनी बातों को रखते रहे हैं। कुछ लोग जातीय जनगणना के खिलाफ में बोलते और लिखते रहते हैं लेकिन यह समाज को बांटने के लिए नहीं बल्कि एकजुट करने के लिए जरुरी है।’’

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट