ताज़ा खबर
 

Odisha Panchayat Election Results 2017: 797 सीटों में से 448 जीतकर बीजद सबसे आगे, भाजपा को मिली 283, कांग्रेस 49 पर अटकी

राज्‍य में 851 सीटों पर 13 से 21 फरवरी के बीच चुनाव हुए थे।
Odisha Panchayat elections 2017: चुनाव नतीजों के बाद डांस करती भाजपा की महिला कार्यकर्ता। (Express Photo)

ओडिशा पंचायत और जिला परिषद चुनावों के आधिकारिक नतीजे चुनाव आयोग घोषित कर रहा है। राज्‍य में 851 सीटों पर 13 से 21 फरवरी के बीच चुनाव हुए थे। ओडिशा जिला परिषद के 849 में से 797 सीटों के नतीजे घोषित कर दिए गए हैं। इनमें बीजद ने 448, भाजपा ने 283 और कांग्रेस ने 49 सीटें जीती हैं। निर्दलीय और अन्‍यों को 17 सीटें मिली हैं। राज्‍य की गजपति जिला परिषद की चेयरपर्सन की पोस्‍ट भाजपा को मिलने जा रही है। हालांकि उसे बहुमत नहीं मिला लेकिन यह सीट दलित महिला के लिए आरक्षित है और केवल भाजपा ने ही इस तरह की सीट जीती है। भाजपा के लिए यह चुनाव फायदे का सौदा साबित हुए हैं। राज्‍य चुनाव आयोग के अनुसार 29 जिलों की 174 जिला परिषदों के लिए मतदान हुआ है। इस दौरान 53,62,814 मतदाताओं ने जिला परिषद, समिति, वार्ड मेंबर और सरपंचों के लिए वोट डाले। खबरों के अनुसार भाजपा ने लगभग 306 सीटें जीती हैं जो कि पांच साल पहले 2012 में हुए चुनावों से लगभग 10 गुना ज्‍यादा है।

2012 के पंचायत चुनावों में भाजपा को 36 सीटें मिली थीं। वहीं राज्‍य की सत्‍ता में आसीन बीजू जनता दल(बीजद) को नुकसान उठाना पड़ा है। वहीं कांग्रेस को मुकाबले में ही नहीं दिख रही। ओडिशा में 17 साल से नवीन पटनायक के नेतृत्‍व में बीजद की सरकार है। भाजपा नेताओं में इन नतीजों से काफी उत्‍साह है। 2014 में हुए लोकसभा और विधानसभा चुनावों में भाजपा की हालत खराब रही थी। 21 लोकसभा सीटों में से उसे केवल एक पर जीत मिली थी। वहीं विधानसभा में भी वह तीसरे नंबर पर रही थी।

2012 के चुनावों में नवीन पटनायक के नेतृत्‍व वाली बीजद ने पंचायत चुनावों में इकतरफा जीत दर्ज की थी। उसने 854 सीटों में से 77 प्रतिशत पर कब्‍जा किया था। कांग्रेस 13 प्रतिशत के साथ दूसरे नंबर पर थी। 2014 के विधानसभा चुनावों में भी यही सिलसिला जारी रहा और बीजद को 147 में से 119 पर विजय मिली। वहीं लोकसभा में चुनावों में 21 में से 20 सीटें उसके पाले में गई थी।

शुरुआती नतीजों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंचायत चुनावों में भाजपा में भरोसा दिखाने पर ओडिशा की जनता का धन्‍यवाद दिया था। ओडिशा की भाजपा इकाई ने भी जीत को लेकर ट्वीट के जरिए जानकारी दी थी। उसके ट्वीट में बताया गया कि पार्टी ने आठ जिला परिषदों में शून्‍य से शुरुआत की और अब उसे यहां बहुमत मिला है। केंद्रीय मंत्री और ओडिशा भाजपा प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने नतीजों को लेकर कहा कि ओडिशा की जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम में विश्‍वास जताया है। बीजद अब विश्‍वास खो रही है। यह ओडिशा में बीजद के शासन के अंत की शुरुआत है।

Odisha Panchayat elections 2017, BJP, BJD, congress, odisha BJP, odhisha results, Odisha Panchayat elections result, Odisha Panchayat results, BJP odisha, odisha news Odisha Panchayat elections 2017: जीत के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने पटाखे भी फोड़े।

भाजपा नेताओं का मानना है कि इन नतीजों से बीजद में खलबली है और संभव है कि आने वाले समय में उसके कई नेता भगवा पार्टी का दामन थाम लें। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों में भाजपा को उत्‍तर प्रदेश और बिहार जैसे बड़े राज्‍यों में 2016 की तुलना में कम सीटें मिलती हैं तो वह ओडिशा जैसे राज्‍यों में अच्‍छा प्रदर्शन कर इसकी पूर्ति कर सकती है।