ताज़ा खबर
 

ओडिशा में भाजपा नेता की हत्या, कानून मंत्री सहित 13 के खिलाफ केस दर्ज

शनिवार को ओडिशा के कटक जिले में मंडल प्रभारी 75 वर्षीय कुलमणि बराल अपने 80 वर्षीय सहयोगी दिव्य सिंह बराल के साथ मोटरसाइकिल से घर की ओर लौट रहे थे। बीच रास्ते में ही अपराधियों ने घात लगाकर दोनों की हत्या कर दी। इससे दोनों के चेहरे और छाती पर गंभीर चोटें आई थी।

crime scene, crime , maharashtraप्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो क्रेडिट – freepik)

ओडिशा के कटक जिले में हुई भाजपा नेता के हत्या के मामले में पुलिस ने राज्य के कानून मंत्री प्रताप जेना सहित 13 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। बीते शनिवार को भाजपा नेता कुलमणि बराल और उनके सहयोगी दिव्य सिंह बराल की हत्या कर दी गयी थी। कुलमणि बराल की हत्या के बाद भाजपा ने सत्तारुढ़ बीजू जनता दल पर प्रतिशोध की राजनीति करने का आरोप लगाया था और कहा था कि बीजेडी भी तृणमूल कांग्रेस की तरह हो गयी है।

शनिवार को ओडिशा के कटक जिले में मंडल प्रभारी 75 वर्षीय कुलमणि बराल अपने 80 वर्षीय सहयोगी दिव्य सिंह बराल के साथ मोटरसाइकिल से घर की ओर लौट रहे थे। बीच रास्ते में ही अपराधियों ने घात लगाकर दोनों की हत्या कर दी। इससे दोनों के चेहरे और छाती पर गंभीर चोटें आई थी। जिससे कुलमणि बराल ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था वहीँ दिव्य सिंह की मौत इलाज के दौरान कटक के अस्पताल में हो गयी थी।

अपने नेता की हत्या से नाराज़ भाजपा ने बीजेडी पर आरोप लगाते हुए कहा था कि जो काम ममता बनर्जी बंगाल में कर रही है वही काम ओडिशा में नवीन पटनायक की सरकार कर रही है। भाजपा ने इस मामले राज्य के कानून मंत्री को अभियुक्त बनाये जाने पर कहा कि उनको तुरंत ही सरकार से बर्खास्त किया जाना चाहिए। वहीँ केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी इस हत्या की निंदा की थी।

कुलमणि बराल के बेटे रमाकांत ने 13 लोगों के खिलाफ एफ़आईआर दर्ज करते हुए कहा कि उनके पिता कटक जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना में हो रही धांधली के खिलाफ आवाज उठा रहे थे। जिसकी वजह से उनके जान का खतरा बना हुआ था। उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस में भी की थी लेकिन कोई भी एक्शन नहीं लिया गया। साथ ही रमांकांत ने यह भी बताया कि उन्होंने जिन लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है वे लोग ही 2018 दिसंबर में हुए बीजेपी नेता विकास जेना की हत्या के साजिशकर्ता थे। लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस की तरफ से कोई कारवाई नहीं की गयी। अगर समय रहते कारवाई की जाती तो मेरे पिता बच जाते।

हालाँकि कानून मंत्री प्रताप जेना ने अपने खिलाफ लगे सभी आरोपों को निराधार और बेबुनियाद बताया है और कहा है कि वह इसकी जांच कराएँगे और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कारवाई करेंगे। कटक ग्रामीण एसपी ने कहा है कि इस मामले की जाँच के लिए छह टीम बनाई गयी है।

 

Next Stories
1 किसान को MSP की गारंटी नहीं, पर गोदाम के लिए उद्योगपतियों को पैसा दे रही मोदी सरकार- राहुल गांधी बोले
2 दिल पे ले गया है किसान, बिल वापसी से कम पर बात ना बनेगी- चर्चा से पहले बोले राकेश टिकैत
3 राम मंदिर निर्माण में मुश्किल, जहां बन रहा वहां जमीन भुरभुरी और काफी गहराई तक नहीं है मलबा
ये पढ़ा क्या?
X