ताज़ा खबर
 

बंद के दौरान आग लगाने के लिए तैयार रहना- कांग्रेस नेता का ऑडियो वायरल, दी सफाई- इंसाफ ही नहीं मिल रहा तो क्या करें

कांग्रेस नेता ने कहा कि 'मैं अहिंसा में विश्वास रखता हूं। हमनें हमेशा लोगों की सुरक्षा और उनके अधिकारों को ध्यान में रखते हुए विरोध प्रदर्शन किए हैं। हमने भूख हड़ताल भी की, लेकिन हमें इंसाफ नहीं मिला।'

pradeep manjhiकांग्रेस के पूर्व सांसद प्रदीप मांझी।

ओडिशा के कांग्रेस नेता और नबरंगपुर से पूर्व सांसद प्रदीप मांझी का एक ऑडियो काफी वायरल हो रहा है। इस ऑडियो में कांग्रेस नेता मोबाइल फोन पर बातचीत के दौरान अपने समर्थकों को विरोध प्रदर्शन के दौरान आगजनी करने के लिए तैयार रहने को कह रहे हैं। कांग्रेस नेता अपने समर्थकों से कहते सुनाई दे रहे हैं कि पेट्रोल डीजल तैयार रखो, जैसे ही ऑर्डर मिले, सबकुछ जला देना।

फिलहाल पुलिस ने कांग्रेस नेता के खिलाफ हिंसा भड़काने का केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। एक आदिवासी किशोरी के साथ बलात्कार और हत्या के विरोध में कांग्रेस द्वारा गुरूवार को 12 घंटे के बंद का आह्वान किया गया था। जब इस ऑडियो के बारे में प्रदीप मांझी से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि यदि इंसाफ नहीं मिल रहा है तो क्या करें?

कांग्रेस नेता ने कहा कि ‘मैं अहिंसा में विश्वास रखता हूं। हमनें हमेशा लोगों की सुरक्षा और उनके अधिकारों को ध्यान में रखते हुए विरोध प्रदर्शन किए हैं। हमने भूख हड़ताल भी की, लेकिन हमें इंसाफ नहीं मिला।’ प्रदीप मांझी का कहना है कि ‘बीजद सरकार में महिलाओं और बच्चियों के साथ बलात्कार हो रहे हैं और ऐसी स्थिति में मैं चुप नहीं रह सकता।’ मांझी ने कहा कि ‘प्रजातंत्र से मेरा भरोसा उठ गया है।’

बता दें कि इस माह की शुरूआत में ओडिशा के नबरंगपुर जिले में एक नाबालिग आदिवासी लड़की की बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई थी। इसी मामले में कांग्रेस के पूर्व सांसद ने बंद का आयोजन किया था। कांग्रेस नेता की मांग है कि सरकार इस मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट जारी करे।

प्रदर्शनकारियों की मांग है कि मृतका के परिजनों को 20 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाए। हालांकि पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट को जांच का हिस्सा बताते हुए अभी इसे जारी करने से मना कर दिया है। पुलिस अधिकारियों ने जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार करने की बात कही है।

वहीं कांग्रेस नेता के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजद सांसद रमेश मांझी ने कहा कि एक राजनेता द्वारा हिंसा करना ठीक नहीं है। कार्यकर्ताओं को हिंसा के लिए भड़काना अशोभनीय है। उनकी भाषा आतंकवादी की तरह लग रही है। पिछले चुनावों में मिली हार के कारण वह ऐसे बयान दे रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ओवैसी ने CAA को बताया सांप्रदायिक, BJP सांसद बोले- इस पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर हमेशा के लिए भेज दो जेल
2 गुड गवर्नेंस इंडेक्स: 9 क्षेत्र में किसी में भी नंबर-1 नहीं मॉडल स्टेट गुजरात, सबसे निचले पायदान पर बीजेपी शासित 3 राज्य
3 ‘वो इटली से आकर यहां की नागरिकता ले सकती हैं लेकिन परेशान हिन्दुओं-सिखों पर इन्हें दर्द हो रहा’, भाजपायी मंत्री का सोनिया गांधी पर तंज
IPL 2020: LIVE
X