scorecardresearch

नूपुर शर्मा के बयान ने देश में लगाई आग, सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी पर अंबर जैदी बोलीं- जिन्‍होंने घी डाला वो भी जिम्मेदार

नूपुर शर्मा के वकील ने कहा कि वह जांच में शामिल हो रही हैं और कहीं भाग नहीं रही हैं।इसपर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिर तो वहां आपके लिए रेड कार्पेट होना चाहिए।

nupur-sharma
नूपुर शर्मा (फोटो- फाइल)

निलंबित भाजपा नेता नूपुर शर्मा ने अपनी विवादास्पद टिप्पणी को लेकर कई राज्यों में उनके खिलाफ दर्ज सभी एफआईआर को जांच के लिए दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। शर्मा का कहना था कि उन्हें लगातार जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं। इस मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा को जमकर फटकार लगाई और कहा कि नूपुर शर्मा और उनकी हल्की जबान ने पूरे देश में आग लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट की इस तल्ख टिप्पणी पर समाजिक कार्यकर्ता अंबर जैदी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अगर जिम्मेदार नुपूर हैं तो वो लोग भी ज़िम्मेदार हैं जिन्होंने प्रोपगैंडा के तहत देश में आग लगाई।

इंडिया टीवी पर एक डिबेट के दौरान सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा, “जिस अंदाज में नूपुर ने बात की, उसे हम गलत कह सकते हैं लेकिन उसके बाद जिस तरह के इस बयान को लेकर भड़काया गया और ऐसे लोगों ने इस आग में इतना घी डाला कि एक मासूम को अपनी जान गंवानी पड़ गई। जिन्होंने वीडियो को ट्विस्ट एंड टर्न करके पूरी दुनिया में फैलाया, उनके लिए तो धरने हो रहे हैं। चाहें हिंदू हो या मुसलमान हो, जो भी देश में हिंसा भड़काते हैं, सभी से सवाल होने चाहिए। हिंदू से तो सवाल होगा लेकिन मुसलमान से सवाल नहीं होगा क्योंकि बेचारा मुसलमान है।”

नूपुर शर्मा की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणी की। कोर्ट ने नूपुर शर्मा को फटकार लगाते हुए कहा कि उन्हें पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। कोर्ट ने कहा कि उन्होंने और उनके बयान ने पूरे देश में आग लगा दी है। सर्वोच्च अदालत ने कहा कि टीवी चैनल और नुपुर शर्मा को ऐसे मामले से जुड़े किसी भी एजेंडे को बढ़ावा नहीं देना चाहिए, जो कोर्ट में विचाराधीन है।

वहीं, नूपुर शर्मा की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि उन्होंने टिप्पणी के लिए माफी मांगी और टिप्पणियों को वापस ले लिया। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- उन्हें टीवी पर जाकर देश से माफी मांगनी चाहिए थी। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि उदयपुर में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना के लिए उनका बयान ही जिम्मेदार है, जहां एक दर्जी की हत्या कर दी गई। नूपुर शर्मा के वकील ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि उन्हें अपनी जान का खतरा है, इस पर जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि उन्हें खतरा है या वह सुरक्षा के लिए खतरा बन गई हैं?

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X