X

मिशनरी ऑफ जीसस ने किया बलात्‍कार के आरोपी बिशप का बचाव, आवाज उठाने के लिए ननों को लताड़ा

मिशनरीज ऑफ जीसस ने कहा, "हम इस विरोध प्रदर्शन से शर्मिंदा और दुखी हैं। हमारी आत्‍मा पीड़‍िता और एक निर्दोष इंसान को सूली पर चढ़ाने की मांग करती सिस्‍टर्स के साथ खड़े होने की इजाजत नहीं देती।''

बलात्‍कार के आरोपी बिशप जेम्‍स फ्रैंको मुलक्‍कल की गिरफ्तारी की मांग कर रहे ननों को कई संगठनों का समर्थन मिला है। उन्‍होंने सोमवार को कोच्चि हाई कोर्ट के पास अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर दिया है। दूसरी तरफ, बिशप की संस्‍था मिशनरीज ऑफ जीसस ने एक प्रेस नोट जारी कर कहा कि वह ननों का समर्थन नहीं करेगा। नोट में कहा गया, ”हम हाई कोर्ट के बाहर हमारे खिलाफ प्रदर्शन कर रही सिस्‍टर्स की निंदा करते हैं। जहां तक हमारा सवाल है, हम इस विरोध प्रदर्शन से शर्मिंदा और दुखी हैं। हमारी आत्‍मा पीड़‍िता और एक निर्दोष इंसान को सूली पर चढ़ाने की मांग करती सिस्‍टर्स के साथ खड़े होने की इजाजत नहीं देती।”

प्रेस को जारी बयान में मिशनरीज ऑफ जीसस ने कहा कि नन का दावा कि बिशप ने 2014 से 2016 के बीच कई बार उसका बलात्‍कार किया, झूठा है और उन्‍होंने यह जानकारी कानूनी संस्‍था को दे दी है। नोट में कहा गया, ”हमारी सिस्‍टर का दावा है कि बिशप ने 5 मई, 2014 को उससे बलात्‍कार किया लेकिन उसके बाद कई बार उस सिस्‍टर ने खुद बिशप को कई घरेलू कार्यक्रमों में बुलाया, जिसमें बिशप शामिल हुए।” इसमें यह भी कहा गया है कि विरोध कर रहीं सिस्‍टर्स कानूनी रूप से कुरावीलंगड़ कॉन्‍वेंट से ताल्‍लुक नहीं रखतीं।

मिशनरीज ऑफ जीसस ने कहा है कि हाई कोर्ट के बाहर विरोध कर रहीं पांच सिस्‍टर्स ‘बाहरी ताकतों’ की मदद से ऐसा कर रही हैं। चेतावनी देते हुए संस्‍था ने कहा, ”हम पांच सिस्‍टर्स के समर्थन में आने वाले सभी सांस्‍कृतिक और राजनैतिक नेताओं को चेतावनी देते हैं कि ध्‍यान रखें कि वह ठगे न जाएं।”

कैथोलिक ननों के एक समूह ने मामले में अपराध शाखा की जांच का विरोध किया। समूह की एक सदस्य ने मीडिया से कहा, “हमने सुना है कि अपराध शाखा की जांच को लेकर योजना बनाई जा रही है। यह केवल कानूनी कार्रवाई में देरी करने के लिए है। हम वर्तमान पुलिस जांच से खुश हैं। उच्च अधिकारी नहीं चाहते हैं कि हमें न्याय मिले।”

ननें इसलिए विरोध कर रही हैं क्योंकि मामला 76 दिन पहले दर्ज होने के बावजूद पुलिस ने पीड़ित के 12 बयान लिए लेकिन आरोपी बिशप का सिर्फ एक बयान लिया गया। इस बीच केरल पुलिस प्रमुख लोकनाथ बेहरा ने जांच अपराध शाखा से कराए जाने के दावों को खारिज कर दिया है।

Outbrain
Show comments