ताज़ा खबर
 

लागू हुआ मोदी सरकार का आदेश, और ऊंचा हो गया NSA अजित डोवाल का कद

एसपीजी का काम 'नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल' (National Security Council) के साथ मिलकर देश की आंतरिक, बाहरी और आर्थिक सुरक्षा को लेकर रणनीति बनाना है।

मोदी सरकार ने बढ़ाया एनएसए अजीत डोवाल का कद। (express photo)

केन्द्र की मोदी सरकार ने ‘राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार’ (NSA(National Security Advisor))अजीत डोवाल का कद बढ़ाते हुए उन्हें “स्ट्रैटेजिक पॉलिसी ग्रुप” (SPG) का चीफ नियुक्त किया है। गौरतलब है कि अभी तक एसपीजी के चीफ का पद ‘कैबिनेट सेक्रेटरी’ के पास होता था, लेकिन मोदी सरकार ने बीते दिनों नियमों में बदलाव करते हुए एसपीजी का चीफ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को बनाने का फैसला किया था। अब सरकार का यह फैसला लागू हो गया है और ‘एनएसए अजीत डोवाल’ ने कैबिनेट सेक्रेटरी को रिप्लेश करते हुए एसपीजी चीफ का पद संभाल लिया है। बता दें कि स्ट्रैटेजिक पॉलिसी ग्रुप का गठन अप्रैल, 1999 में किया गया था। एसपीजी का काम ‘नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल’ (National Security Council) के साथ मिलकर देश की आंतरिक, बाहरी और आर्थिक सुरक्षा को लेकर रणनीति बनाना है।

साल 1999 में जब एसपीजी का गठन हुआ था, तब सरकार ने इसका चेयरपर्सन कैबिनेट सेक्रेटरी को नियुक्त किया था। लेकिन बीती 11 सितंबर को सरकार ने एक फैसले में एसपीजी का प्रमुख कैबिनेट सेक्रेटरी के बजाए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को बनाने का फैसला किया। 8 अक्टूबर के गैजेट में सरकार ने अपना यह आदेश पब्लिश भी किया है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के अनुसार, सरकार ने एसपीजी के सदस्यों की संख्या 16 से बढ़ाकर 18 करने का भी फैसला किया है। 2 अतिरिक्त नए सदस्यों के तौर पर कैबिनेट सेक्रेटरी और नीति आयोग के चेयरमैन को इसमें शामिल किया गया है।

स्ट्रैटेजिक पॉलिसी ग्रुप के अन्य सदस्यों की बात करें तो इसमें आर्मी चीफ, नौसेना अध्यक्ष, वायुसेना अध्यक्ष, RBI गवर्नर, विदेश मंत्रालय के सचिव, गृह सचिव, रक्षा सचिव, वित्त सचिव, रक्षा उत्पादन सचिव, राजस्व सचिव, एटॉमिक एनर्जी सचिव, स्पेस टेक्नोलॉजी से जुड़े व्यक्ति, राष्ट्रीय सुरक्षा काउंसिल के सचिव, डिफेंस मिनिस्टरी के विभिन्न वैज्ञानिक सलाहकार और इंटेलीजेंस ब्यूरो के चीफ शामिल होते हैं। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल सरकार के नए स्ट्रैटेजिक थिंक टैंक “डिफेंस प्लानिंग कमेटी” के भी चेयरपर्सन हैं। डिफेंस प्लानिंग कमेटी भी देश की सेना और सुरक्षा के लिए रणनीति बनाने और सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण अधिग्रहण करने का काम करती है। एसपीजी बैठक को बुलाने का अधिकार राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को होगा, वहीं कैबिनेट सचिव एसपीजी के विभिन्न सदस्यों के साथ समन्वय कर इस बैठक को आयोजित करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X