ताज़ा खबर
 

असम में NRC का डेटा वेबसाइट से गायब, विवाद पर बोले स्टेट कॉर्डिनेटर- आंकड़े सुरक्षित हैं

एनआरसी के स्टेट कॉर्डिनेटर हितेश देव सर्मा ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में जानकारी दी है कि किसी तरह की चिंता की बात नहीं है और डाटा बिल्कुल सुरक्षित है।

Translated By मोहित गुवाहटी | Updated: February 12, 2020 8:52 PM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

असम में नेशनलल रजिस्ट्रर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) का डाटा आधिकारिक वेबसाइट से ‘गायब’ हो गया है। असम में रहने वाले लोगों की जानकारी रखने वाली यह लिस्ट बीते साल 31 अगस्त को nrcassam.nic.in पर अपलोड की गई थी। डाटा गायब होने के बाद विवाद को बढ़ता देखा सरकार ने सफाई दी है। एनआरसी के स्टेट कॉर्डिनेटर हितेश देव सर्मा ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में जानकारी दी है कि किसी तरह की चिंता की बात नहीं है और डाटा बिल्कुल सुरक्षित है।

उन्होंने डाटा गायब होने के पीछे ‘तकनीकों दिक्कतों’ का हवाला दिया है। हितेश देव सर्मा ने बताया ‘डाटा 15 दिसंबर से ही वेबसाइट पर नहीं दिखाई दे रहा है। बता दें कि यह वह डाटा है जिसमें एनआरसी लिस्ट से बाहर किए गए और शामिल किए गए लोगों की जानकारी थी। डाटा ऑफलाइन होने से उन लोगों में भय व्याप्त हो गया जिन्हें सूची से बाहर रखा गया है क्योंकि उन्हें सूची से बाहर किए जाने का प्रमाणपत्र अभी जारी नहीं किया गया है।

वहीं मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘एनआरसी डेटा सुरक्षित है। क्लाउड पर कुछ तकनीकी मुद्दे देखे गए। इन्हें जल्द ही हल किया जा रहा है।’ बड़े पैमाने पर डेटा के लिए क्लाउड सेवा आईटी कंपनी विप्रो ने मुहैया कराई थी और उनका अनुबंध पिछले साल 19 अक्टूबर तक का था। बहरहाल, पूर्व संयोजक ने इस अनुबंध का नवीनीकरण नहीं किया।

शर्मा ने बताया कि इसलिए विप्रो द्वारा निलंबित किए जाने के बाद 15 दिसंबर से डेटा ऑफलाइन हो गया था। वहीं विप्रो ने इस विवाद पर कहा है कि सेवा के लिए अनुबंध का नवीनीकरण नहीं किया। इसके अनुबंध की समयसीमा अक्टूबर 2019 में ही समाप्त हो गयी। अगर अनुबंध का नवीनीकरण करवाया जाता है तो सेवाएं पुन: मुहैया करवाई जाएंगी।

Next Stories
1 मूंगफली, बिस्कुट के पैक में छिपा कर ला रहा था 45 लाख रुपये की विदेशी करेंसी, CISF ने धरा; देखें VIDEO
2 महाराष्ट्र में अब कर्मचारी करेंगे पांच दिन काम, दो दिन आराम; राज्य सरकार का फैसला, 29 फरवरी से लागू होंगे नए नियम
3 आम आदमी को एक और झटका, खुदरा महंगाई दर भी बढ़ी, पहुंची 6 साल के उच्चतम स्तर पर
ये पढ़ा क्या?
X