ताज़ा खबर
 

NRC पर सुप्रीम कोर्ट में बोली मोदी सरकार, “भारत नहीं बन सकता दुनिया भर के शरणार्थियों की राजधानी”

एनआरसी के जरिए असम में गैर-अप्रवासी लोगों की पहचान की जा रही है। बांग्लादेश के पाकिस्तान से अलग होने के बाद कई अवैध घुसपैठियों ने भारत में गैर-कानूनी तरीके से पनाह ले ली थी।

NRC, illegal immigrants, assam government, tushar mehta, national register of citizen, cji, supreme court, ranjan gogoi, bangladeshसरकार ने एनआरसी सूची की डेडलाइन को 31 जुलाई तक बढ़ाने के लिए आग्रह किया। फोटो: फाइनेंशियल एक्सप्रेस

नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (एनआरसी) पर केंद्र सरकार ने कहा है कि भारत दुनिया भर के शरणार्थियों की राजधानी नहीं बन सकता। शुक्रवार (19 जुलाई 2019) सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान केंद्र ने यह दलील पेश की। केंद्र की तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट के समक्ष अपना पक्ष रखा। केंद्र और असम सरकार ने सीमा से लगे जिलों मे 20 फीसदी सैंपल पुर्नजांच के लिए सुप्रीम कोर्ट से फाइनल एनआरसी की तारीख 31 जुलाई बढ़ाने का आग्रह किया है।

केंद्र और असम सरकार ने बांग्लादेश सीमा से लगे असम के जिलों में नागरिक पंजी मसौदे में शामिल किये गये नामों की सूची से 20 फीसदी और दूसरे जिलों की मसौदा सूचियों से 10 फीसदी औचक नमूने लेने और उनका सत्यापन करने की अनुमति के लिये 17 जुलाई को शीर्ष अदालत में आवेदन दायर किये थे।

असम और केंद्र सरकार ने कोर्ट से एनआरसी सूची की डेडलाइन को 31 जुलाई तक बढ़ाने के लिए आग्रह किया। मेहता ने कहा कि सरकार राज्य में एक बार फिर से रिवेरिफिकेशन कर गैर-अप्रवासी लोगों की पहचान करना चाहती है। सालिसिटर जनरल ने कहा कि सरकार अवैध घुसपैठियों से कड़ाई से निबटने के लिए प्रतिबद्ध है। देश को शरणार्थियों की राजधानी नही बनने दिया जाएगा।

सरकार ने कहा कि स्थानीय सांठगांठ के चलते लाखों अवैध घुसपैठिये नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन सूची मे शामिल हो गए हैं जिसकी जांच करना बेहद जरूरी है। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस आर.एफ नरीमन की बेंच ने केंद्र की दलीलों को सुनने के बाद मामले की अगली सुनवाई 23 जुलाई को तय की है। कोर्ट निर्णय लेगी कि क्या एनआरसी लिस्ट की 31 जुलाई की डेडलाइन को आगे बढ़ाया जाना चाहिए या नहीं।

बता दें कि कि सरकार का मानना है कि एनआरसी के जरिए असम में गैर-अप्रवासी लोगों की पहचान की जा रही है। बांग्लादेश के पाकिस्तान से अलग होने के बाद कई अवैध घुसपैठियों ने भारत में गैर-कानूनी तरीके से पनाह ले ली थी। खासतौर पर असम में बांग्लादेश से सटी सीमा पर हजारों लोगों ने भारत में प्रवेश किया। सरकार का मानना है कि इन घुसपैठियों को भारत से बाहर का रास्ता दिखाया जाना चाहिए। असम में डिटेंशन सेंटर में भी कई लोग रहे  रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लाल बहादुर शास्त्री के बेटे ने कहा, “कांग्रेस को चाहिए ‘गांधी’ अध्यक्ष, वर्ना टूट जाएगी पार्टी”
2 पिछली सरकारों ने रखी 50 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की मजबूत नींव, प्रणब मुखर्जी ने कांग्रेस की आलोचना करने वालों पर साधा निशाना
3 Weather Forecast, Temperature: बिहार के नवादा में बिजली गिरने से 8 बच्चों की मौत, मृतकों के परिवार को चार-चार लाख रुपए देने का एलान
ये पढ़ा क्या?
X