ताज़ा खबर
 

NRC विवाद: ममता बनर्जी बोलीं- आग से ना खेले BJP, मैं खुद नहीं जानती अपने पिता की बर्थ डेट

CAA Protest, Mamata Banerjee: ममता ने कहा कि यदि भाजपा शासित राज्यों में नए नागरिकता कानून के विरोध कर रहे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करना जारी रखती है तो उसे इसका "गंभीर परिणाम" भूगतना होगा।

पैदल मार्च के दौरान ममता बनर्जी। फोटो: TMC/Twitter

CAA Protest, Mamata Banerjee: पंश्चिम बंगाल की सीएम व टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने बीजेपी को चेतावनी देते हुए कहा कि “उन्हें पता नहीं है कि वे  देश में नागरिकता संशोधन कानून (CAA), एनआरसी और एनपीआर लागू कर आग से खेलने का काम कर रही है। साथ ही उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये लोग एनआरसी और एनपीआर पर लोगों को कन्फ्यूज्ड कर रहे है। ममता बनर्जी ने कहा कि यह सरकार आंदोलन से डर रही है। मैं भाजपा से कहना चाहती हूं कि आग से मत खेलो।

छात्रों को प्रदर्शन करने से कोई नहीं रोक सकता: गौरतलब है कि सीएए के विरोध प्रदर्शन में छात्र संगठन सबसे आगे हैं और पुलिस के लाठियों का शिकार हो रहे हैं। इस पर ममता ने छात्रों से कहा कि उन्हें किसी से डरने की जरूरत नहीं है। यह सरकार छात्रों को परेशान कर रही है। छात्र भी इस देश के नागरिक हैं। उन्हें देश के मुद्दे पर विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार है। उनको ऐसा करने से कोई रोक नहीं सकता है।

Hindi News Today, 27 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

पिता के जन्म की तारीख याद नहीं: सीएम ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये लोग एनआरसी और एनपीआर पर झूठ बोल रहे हैं और लोगों के अंदर कन्फ्यूजन पैदा कर रहे हैं। अब सरकार एनपीआर के माध्यम से लोगों के माता-पिता के जन्म के बारे में पूछताछ करेगी। मुझे अपने पिता की जन्म की तारीख याद नहीं है। यदि कोई उनके मरने के बारे में पूछे तो बता सकती हूं। क्योंकि उन दिनों जन्म के बारे में किसी के पास कोई जानकारी नहीं होती थी। यह सोचने वाली बात है कि जब यह जानकारी मेरे पास नहीं है तो आम लोगों का क्या हाल होगा।

“यदि हम ऐसा करना शुरू करते हैं तो गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं” : गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल सरकार ने पहले ही राज्य में एनपीआर के काम पर रोक लगा दी है। ममता ने कहा कि यदि भाजपा शासित राज्यों में नए नागरिकता कानून के विरोध कर रहे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करना जारी रखती है तो भाजपा को इसका “गंभीर परिणाम” भुगतना होगा। यदि बीजेपी शासित राज्यों में विरोध कर रहे लोगों के खिलाफ कार्रवाई होती है तो हमारे पास भी कानून हैं। हम उन्हें चेतावनी दे रहे हैं कि कई राज्यों में अन्य दल भी सत्ता में हैं। अगर वे भाजपा के खिलाफ ऐसा करना शुरू करते हैं, तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते है।

पीड़ित परिवारों का टीएमसी करेगी मदद: ममता ने मंगलुरू में पुलिस विरोधी प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी में मारे गए दो लोगों के परिवारों को कर्नाटक के सीएम बी एस येदियुरप्पा से मदद करने की मांग की है। साथ ही कहा कि यदि वहां सरकार उनकी मदद नहीं करती है तो उनसे मिलने के लिए टीएमसी प्रतिनिधिमंडल को भेजा जाएगा। हमने फैसला किया है कि टीएमसी ट्रेड यूनियन पीड़ित परिवारों को 5-5 लाख रुपये का चेक सौंपेगी।

हिंसा भड़काने में शामिल तो मदद नहीं की जाएगी:  उनकी घोषणा के एक दिन बाद ही कर्नाटक के सीएम ने संवाददाताओं से कहा कि दो लोग जिनकी मौत हुई है यदि वह जांच में 19 दिसंबर को सीएए के विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़काने में शामिल पाए जाते है तो उनके परिवार को एक रुपए की भी मदद नहीं की जाएगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बंद के दौरान आग लगाने के लिए तैयार रहना- कांग्रेस नेता का ऑडियो वायरल, दी सफाई- इंसाफ ही नहीं मिल रहा तो क्या करें
2 ओवैसी ने CAA को बताया सांप्रदायिक, BJP सांसद बोले- इस पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर हमेशा के लिए भेज दो जेल
3 गुड गवर्नेंस इंडेक्स: 9 क्षेत्र में किसी में भी नंबर-1 नहीं मॉडल स्टेट गुजरात, सबसे निचले पायदान पर बीजेपी शासित 3 राज्य
ये पढ़ा क्या?
X