ताज़ा खबर
 

NRC IN ASSAM: तकलीफ में ‘फौजी गांव’ के लोग! सेना और अर्धसैनिक बलों में कार्यरत कई जवान भी बाहर

एनआरसी की फाइनल लिस्ट में फौजी परिवारों के नाम भी नदारद हैं। ऐसे लोगों की संख्या काफी ज्यादा है जिनके परिजनों को सूची में रखा गया है, लेकिन उन्हें बाहर कर दिया गया है।

Author Published on: September 3, 2019 4:02 PM
NRC की सूची में सेना में शामिल कई जवानों के नाम नहीं है। (फोटो सोर्स: AP)

असम में NRC को लेकर काफी संख्या में लोग नाराज हैं। भारी संख्या में ऐसे लोग हैं जो इस प्रक्रिया पर सवाल खड़े कर रहे हैं। यहां तक कि NRC की सूची से फौज में तैनात जवानों के नाम भी बाहर हैं। बारपेटा जिले के गांव सरुहरिद, जिसे आम तौर पर ‘फौजी गांव’ के तौर पर जाना जाता है, यहां तकरीबन 200 परिवार रहते हैं। इनमें से 20 जवान भारतीय सेना और अर्धसैनिकल बलों में तैनात हैं। लेकिन, सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि इनमें से अधिकांश जवान अपनी पहचान की जद्दो-जहद से जूझ रहे हैं। टाइम्स नाउ की एक रिपोर्ट के मुताबिक 31 अगस्त को जारी किए गए NRC की सूची में इनका नाम नहीं है और गांव के लोग काफी आक्रोशित हैं।

टाइम्स नाउ ने बताया कि इस गांव में दिलबर बहुसैन हैं, जिन्हें एनआरसी की फाइनल लिस्ट में भारतीय नागरिक नहीं माना गया है। उनके अलावा सूची में उनके भाई का भी नाम नहीं है। गौर करने वाली बात यह है कि दिलबर खुद सेना में सेवा दे चुके हैं और उनके बड़े भाई ने कारगिल की जंग लड़ी थी, जबकि छोटा भाई CISF में तैनात है। इनमें से बड़े भाई को नागरिकता सूची में शामिल कर लिया गया। जबकि, बाकी के दोनों भाई सूची से बाहर हैं।

टाइम्स नाउ की रिपोर्ट में दिलबर हुसैन ने कहते हैं, “हम दुश्मनों से लड़ते हैं। हम अपने फौजी परिवार का पहले सम्मान करते हैं। लेकिन, फाइनल लिस्ट जारी होने से हमें काफी निराशा मिली है। हम यहां भारतीय सेना के जवान हैं लेकिन हम घर पर अपनी नागरिकता साबित करने की जंग लड़ रहे हैं।”

इस बीच असम के भूमिपूत्रों ने एनआरसी के लिए आवेदन भी नहीं दिया। इनका कहना है कि हम भूमिपूत्र हैं और हमें नागरिकता साबित करने की जरूरत नहीं है। अनुमान के मुताबिक अपर असम के आदिवासी समुदाय से जुड़े हजारों लोगों ने एनआरसी की फाइनल लिस्ट के लिए आवेदन नहीं भेजा। एक आंकड़े के मुताबिक ऐसे भूमिपूत्रों की संख्या यहां 8,000 के करीब है। ये लोग डिब्रूगढ़, तिनसुकिया और शिवसागर जिले में रहते हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट में खुद को भूमिपूत्र कहने वाले 44 साल के अनंत सोनोवाल कहते हैं, “मेरे दो बेटे और मैंने (एनआरसी के लिए) आवेदन नहीं किया। हालांकि, मेरी पत्नी का नाम उसके मायके की तरफ से एनआरसी के आवेदन के लिए भेजा गया था, जिसे स्वीकार कर लिया गया।” सोनोवाल आगे कहते हैं, “मुझे लगता है कि यह बिल्कुल ही बेफिजूल का काम है। हम ‘भूमिपूत्र’ हैं। हमारा सरनेम ही हमारी पहचान को साबित करता है। हमारे जैसे नाम वाले लोगों को एनआरसी में स्वत: ही जगह दे देनी चाहिए।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 BJP सांसद ने की बिहार में NRC की मांग, सहयोगी जेडीयू बोली- जरूरत नहीं
2 ‘बैचमेट’ उमर अब्दुल्ला के समर्थन में उतरीं एक्ट्रेस पूजा बेदी, नरेंद्र मोदी सरकार से की यह अपील
3 पर्रिकर के परिवार को निशाना बना रही गोवा सरकार? पूर्व सीएम के नजदीकी ने लगाए गंभीर आरोप