ताज़ा खबर
 

कोरोना: गोवा सरकार ने बताया- मौत के दरवाज़े से लौटे आयुष मंत्री श्रीपद नाइक, प्लाज़्मा थेरेपी शुरू, पीएम ने किया फ़ोन- कोई कमी न रहे

नाइक के कोरोना पॉज़िटिव होने के बाद पहली बार गोवा सरकार ने शुक्रवार को माना कि उनकी हालत नाज़ुक थी और वे मौत के मुंह से वापस आए हैं।

Shripad Naik, Shripad Naik covid 19, Shripad Naik covid recovery, plasma therapy, covid plasma therapy, goa coronavirus casesडॉक्टरों ने कहा कि नाइक अब स्थिर है और निजी मनीपाल अस्पताल में भर्ती है।

‘आयुष’ के केंद्रीय राज्य मंत्री श्रीपद नाइक के कोरोना पॉज़िटिव पाये जाने के बाद उनकी प्लाज़्मा थेरेपी शुरू की गई। नाइक के कोरोना पॉज़िटिव होने के बाद पहली बार गोवा सरकार ने शुक्रवार को माना कि उनकी हालत नाज़ुक थी और वे मौत के मुंह से वापस आए हैं।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने मीडिया से कहा, “वह (नाइक) … मृत्यु के दरवाजे से लौटे हैं।” डॉक्टरों ने कहा कि नाइक अब स्थिर है और निजी मनीपाल अस्पताल में भर्ती है। उन्हें 12 अगस्त को कोरोना पॉज़िटिव पाया गया था और 14 को भर्ती किया गया था। मंत्री ने ट्वीट कर लिखा “रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है, बाकी सब कुछ सामान्य है और मैं होम आइसोलेशन में हूँ।” नाइक का इलाज करने वाली टीम के डॉक्टरों के अनुसार, वह प्लाज्मा उपचार लेने वाल पहले वीवीआईपी हैं। डॉक्टरों ने बताया कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से एक फोन कॉल भी आया था। जिसमें उन्होने कहा था कि कोई कमी नहीं रहना चाहिए, नायक का अच्छे से अच्छा इलाज किया जाना चाहिए।

एक अधिकारी ने कहा, दूसरों की तरह, नाइक को पहले रेमेडिसविर की एक खुराक दी गई थी, हालांकि यह इससे कोई ज्यादा सुधार नहीं दिखा। उनकी हालत खराब होने लगी, ऑक्सीजन संतृप्ति 92 प्रतिशत तक गिर गई। 95 प्रतिशत से नीचे ऑक्सीजन संतृप्ति गंभीर मानी जाती है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि नाइक को सोमवार को पहली प्लाज़्मा थेरेपी दी गई। जिसके बाद उनका ऑक्सीजन संतृप्ति 96 तक पहुँच गई।

दिल्ली एम्स के तीन डॉक्टरों की एक टीम उन पर नजर रखे हुए है। गोवा में पूर्व मुख्यमंत्री रवि नाइक सहित तीन अन्य नेताओं को भी कोरोना पॉज़िटिव पाया गया है, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तीनों को स्थिर बताया गया है। इस बीच एक अधिकारी ने बताया “गोवा मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) ने रिकवर हुए मरीजों से प्लाज्मा लेने के प्रयासों को बढ़ाया है। क्योंकि अस्पताल में प्लाज्मा की कमी है।” गोवा मेडिकल कॉलेज राज्य में कोरोना का इलाज़ करने वाले मुख्य अस्पतालों में से एक है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Coronavirus महामारी के बीच NEET, JEE Mains प्रवेश परीक्षाएं स्थगित करने की मांग बढ़ी, भूख हड़ताल में शामिल हुए 4000 से अधिक छात्र
2 सेवानिवृत्त आईएएस राजीव कुमार नए चुनाव आयुक्त होंगे, लेंगे अशोक लवासा की जगह
3 राजनीतिक विवाद के बीच Facebook के भारत प्रमुख ने कहा, FB पक्षपात रहित मंच है
ये पढ़ा क्या?
X