ताज़ा खबर
 

यूपी फतह के बाद बोले नरेन्द्र मोदी- ना बैठूंगा, ना बैठने दूंगा, दिल्ली जीत के वक्त कहा था-ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 'ना खाउंगा , ना खाने दूंगा' का बयान दे चुके हैं। उनका ये बयान करप्शन को लेकर दिया गया था।

बीजेपी संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (Source-PTI)

यूपी विजय के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जनता के साथ संवाद और लगातार काम करते रहने के अपने मंसूबे को जाहिर कर दिया है। इसकी झलक तब देखने को मिली जब उन्होंने गुरुवार को बीजेपी के संसदीय दल की बैठ में कहा कि, ‘वे अब ना ही खुद बैठेंगे और ना ही दूसरों को बैठने देंगे।’ प्रधानमंत्री यूपी और उत्तराखंड के सीएम कैंडिडेट को चुनने के लिए बुलाई गई पार्टी की संसदीय दल की बैठक में शिरकत कर रहे थे। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ‘ना खाउंगा , ना खाने दूंगा’ का बयान दे चुके हैं। उनका ये बयान करप्शन को लेकर दिया गया था। प्रधानमंत्री के इस बयान का साफ मतलब था कि ना तो उनकी ओर से भ्रष्टाचार की कोई गुंजाइश है और ना ही वे अपने किसी सहयोगी को करप्शन में लिप्त देख सकते हैं।

अब प्रधानमंत्री ने ये नया बयान देकर 2019 तक के अपने एजेंडा को लोगों के सामने स्पष्ट कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2019 के लोकसभा चुनाव में सिर्फ अपने काम के बल पर रिजल्ट चाहते हैं, इसलिए उन्हें कठिन और लगातार काम करने वाले सहयोगियों की ज़रुरत है। राजनीतिक पंडितों का कहना है कि पीएम ने इसी तथ्य को रेखांकित करते हुए ये बयान दिया है।

इस बैठक में शिरकत करने के बाद सरकार के वरिष्ठ मंत्री अनंत कुमार ने बताया कि, ‘ प्रधानमंत्री ने सांसदों को संदेश दिया है कि वे युवाओं को अपने अच्छे कामों का एंबेसडर बनाएं और इसके जरिये सरकार कामों को दूर-दूर तक ले जाएं।’ वहीं अनंत कुमार के मुताबिक, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि, ‘2019 के लोकसभा चुनाव अहम हैं और उसके सभी को तैयार रहना चाहिए, और यूपी की इस जीत को आगे बढ़ाने की ज़रुरत है।’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस बैठक में बयानबाजी के लिए मशहूर बीजेपी के कुछ नेताओं पर भी चुटकी ली, और कहा कि, ‘इस जीत पर मुंह के उन लालों का भी मेरी तरफ से अभिनंदन है जो चुनाव के दौरान चुप रहे।’ दरअसल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का इशारा विवादित बयान देने के लिए मशहूर बीजेपी नेताओं साक्षी महाराज, योगी आदित्यनाथ, गिरीराज सिंह और विनय कटियार की तरफ था।

Next Stories
1 दो साल से लंबित पड़ी राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य नीति को नरेंद्र मोदी सरकार की मंजूरी, पीएचसी में शुरू होगी कई बीमारियों की जांच
2 भाजपा से बगावत के बाद पहली ही पारी में हिट हुए नवजोत सिंह सिद्धू, क्रिकेट में पहले ही विश्‍व कप में लगातार चार अर्द्धशतक लगा हुए थे चर्चित
3 भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक खत्म, CM पर रहस्य बरकरार, रविशंकर प्रसाद ने दिया संकेत कहा- UP का CM बहुत योग्य होगा
ये पढ़ा क्या?
X