अब ‘पीएम पोषण’ के नाम से जानी जाएगी मिड-डे मील योजना, नहीं बढ़ा कुक और कर्मचारियों का मानदेय

सरकार का दावा है कि पीएम पोषण योजना के तहत 24 लाख अन्य स्टूडेंट्स को फायदा मिलेगा। हालांकि खाना बनाने वाले कर्मचारियों के मानदेय में बढ़ोतरी का फैसला नहीं किया गया है।

तस्वीर का सांकेतिक इस्तेमाल किया गया है। एक्सप्रेस आर्काइव

स्कूल के बच्चों के लिए चलाई जाने वाली मिड-डे मील योजना को अब ‘पीएम पोषण के नाम से जाना जाएगा।’ केंद्र सरकार का दावा है कि इस स्कीम के जरिए प्री-प्राइमरी एजुकेशन के तहत सरकारी और ऐडेड स्कूलों के 24 लाख अन्य बच्चों को फायदा मिलेगा। वर्तमान में योजना के तहत कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के 11.80 करोड़ स्टूडेंट्स को भोजन दिया जाता है। पीएम पोषण शक्ति निर्माण और पीएम पोषण स्कीम के तहत अब 24 लाख अन्य स्टूडेंट्स को भी जोड़ा जाएगा। इसमें आंगनवाड़ी से जुड़े बालवाटिका में में पढ़ने वाले बच्चों को भी लाभ दिया जाएगा।

शिक्षा मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने कहा कि पीएम मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट कमिटी ने बड़े फैसले लिए हैं और अब स्कूल जाने वाले बच्चों के पोषण का ध्यान रखने के लिए प्रभावी नीति तैयार की गई है। इसे शुरुआत के पांच साल के लिए लागू किया जाएगा।

इस योजना के तहत कुल 1.3 लाख करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसमें से 54,061 करोड़ का खर्च केंद्र सरकार करेगी और 31,733 करोड़ राज्य सरकार को खर्च करना होगा। अच्छे अनाज के लिए केंद्र सरकार 4500 करोड़ रुपये का फंड जारी करेगी। वहीं विपक्ष का कहना है कि केंद्र ने कोई नया सुधार न करते हुए केवल ‘मिड डे मील योजना’ का नाम बदल दिया गया है। खाना बनाने वाले कर्मचारियों का मानदेय भी नहीं बढ़ाया गया है।

हीं बढ़ा कर्मचारियों का मानदेय

प्रधान ने बताया, ‘नई शिक्षा नीति के तहत प्री-प्राइमरी स्कूल एजुकेशन को भी औपचारिक बनाया जाना है। यह उसी की तरफ एक कदम है। इस कदम से पारदर्शिता भी बढ़ेगी और स्कूलों को सीधा धनराशि मिला करेगी। अभी ब्रेकफास्ट देने पर कोई फैसला नहीं लिया गया है।’ उन्होंने यह भी कहा कि स्कूलों में खाना बनाने वाले रसोइए और कर्मचारियों के मानदेय में बढ़ोतरी का कोई फैसला नहीं किया गया है। हालांकि राज्य सरकारें मानदेय बढ़ाने के लिए स्वतंत्र हैं।

विपक्ष बोला, कुछ नया नहीं किया गया
पश्चिम बंगाल सरकार ने कहा है कि केंद्र ने केवल योजना का नाम बदला है और कोई भी सुधार नहीं किया गया है। राज्य के शिक्षा मंत्री ने कहा, यह सब केवल प्रधानमंत्री शब्द जोड़ने के लिए किया गया है। जब राज्य और केंद्र मिलकर फँडिंग करेगी तो फिर इसमें पीएम शब्द क्यों जोड़ा गया।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट