ताज़ा खबर
 

टीआरपी केस में आरोपी के रूप में क्यों नहीं अर्नब गोस्वामी का नाम? हाई कोर्ट ने मुंबई पुलिस से पूछा

याचिकाकर्ताओं के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक मुंदरगी ने उच्च न्यायालय को बताया कि मुंबई पुलिस आरोपी के रूप में गोस्वामी और एआरजी आउटलायर मीडिया के अन्य कर्मचारियों का नाम लिए बिना मामले में अपनी जांच को लम्बा खींच रही है।

Edited By सचिन शेखर March 18, 2021 5:17 PM
रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी। (द इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

टीआरपी केस में अदालत ने कड़ी टिप्पणी की है। अदालत ने पुलिस से सवाल किया है कि आरोपी के रूप में इस मामले में अर्नब गोस्वामी का नाम क्यों नहीं है? अदालत ने घोटाले में जारी जांच का जिक्र करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि सभी राज्य और केन्द्रीय एजेंसियों को जांच करते समय उद्देश्यपूर्ण और तर्कसंगत रवैया अपनाना चाहिए।

न्यायमूर्ति एस एस शिंदे और न्यायमूर्ति मनीष पिताले की एक पीठ ने कहा कि एक मामले की जांच हमेशा के लिए नहीं चल सकती है और ‘‘जांच मशीनरी को किसी स्तर पर रुकना होगा।’’ न्यायालय ने कहा, ‘‘ईडी, सीबीआई, राज्य पुलिस, सभी को उचित, निष्पक्ष मूल्यांकन के साथ कार्य करना चाहिए।’’ पीठ ने पत्रकार अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी चैनल का संचालन करने वाली एआरजी आउटलायर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा दायर याचिकाओं पर अंतिम दलीलों पर सुनवाई करते यह टिप्पणी की।

इन याचिकाओं में टीआरपी घोटाला मामले में कुछ राहत दिये जाने का अनुरोध किया गया है। याचिकाकर्ताओं के वकील, वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक मुंदरगी ने उच्च न्यायालय को बताया कि मुंबई पुलिस आरोपी के रूप में गोस्वामी और एआरजी आउटलायर मीडिया के अन्य कर्मचारियों का नाम लिए बिना मामले में अपनी जांच को लम्बा खींच रही है, लेकिन आरोप पत्र में उन्हें केवल संदिग्ध बताया गया है।

इस पर पीठ ने कहा कि राज्य को अदालत से समक्ष यह बयान देना चाहिए कि पुलिस को मामले में अपनी जांच को पूरा करने में कितना समय लगने की संभावना है।उच्च न्यायालय सोमवार को भी मामले में दलीलों पर सुनवाई जारी रखेगा।एआरजी आउटलायर मीडिया और गोस्वामी ने पिछले साल उच्च न्यायालय में याचिकाएं दायर कर टीआरपी घोटाला मामले में राहत दिये जाने का अनुरोध किया था।

मुंबई पुलिस ने इस साल जनवरी में इस मामले में दो हलफनामे दायर किए थे, जिसमें कहा गया था कि उन्होंने रिपब्लिक टीवी या उसके कर्मचारियों को निशाना नहीं बनाया है। रिपब्लिक टीवी ने कुछ भी गलत करने से इनकार किया है।

Next Stories
1 केजरीवाल की राह पर कांग्रेस! असम में बिजली मुफ्त देने का वादा, महिलाओं को हर महीने 2000 का गृहिणी सम्मान
2 बंगालः भाजपा प्रत्याशी का कच्चा मकान, पति दिहाड़ी मजदूर, घर में टॉयलेट भी नहीं
3 आंदोलन कर रहे किसानों को भी कोरोना वैक्सीन लगाए सरकार, राकेश टिकैत बोले- डरकर नहीं खत्म होगा प्रदर्शन
ये पढ़ा क्या?
X