ताज़ा खबर
 

शीतलहर की चपेट में उत्तर भारत: घने कोहरे से रेल व वायु यातायात प्रभावित

प्रतिभा शुक्ल पूरा उत्तर, पश्चिमोत्तर व मध्य भारत शीतलहर की चपेट में है। दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान में क ोहरे व ठंड का प्रकोप जारी है। जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ की स्थिति बनी हुई है। राजस्थान के पूर्वोत्तर, उत्तरी मध्य प्रदेश व पूर्वोत्तर के राज्यों […]
Author December 23, 2014 08:14 am
दिल्ली की धुंध भरी सुबह (फोटो: फाइल)

प्रतिभा शुक्ल

पूरा उत्तर, पश्चिमोत्तर व मध्य भारत शीतलहर की चपेट में है। दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान में क ोहरे व ठंड का प्रकोप जारी है। जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ की स्थिति बनी हुई है। राजस्थान के पूर्वोत्तर, उत्तरी मध्य प्रदेश व पूर्वोत्तर के राज्यों और हिमालय के तराई में निचले स्तर के बादल छाए रहे।

मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो-तीन दिनों में पश्चिमी विक्षोभ के कारण जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश हो सकती है। दिल्ली सहित उत्तर प्रदेश व गंगा के मैदानी इलाकों में अगले दो-तीन दिनों में कोहरे के और घना होने के आसार हैं। इस महीने के आखिर में दक्षिण भारत व इसके आसपास के इलाकों में तेज हवा के साथ बारिश हो सकती है। बाकी हिस्सों में मौसम आमतौर से शुष्क बना रहेगा। लेकिन ठंड से फिलहाल राहत नहीं मिलने वाली है। कई हवाई उड़ानें देर से चलीं तो दर्जनों ट्रेनों की सेवाएं ठप रहीं। मौसम विभाग के मुताबिक अगले कुछ दिनों तक कोहरे व ठंडक की जुगलबंदी बनी रहेगी। देश के मैदानी हिस्सों में सबसे कम तामपान उत्तर प्रदेश के हिंडन के आसपास के इलाके में रहा। वहां पारा लुढ़क कर 1.9 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया।

राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार की सुबह इस मौसम की सबसे सर्द सुबह रही जो पहाड़ी इलाके में होने का सुखद एहसास दिला गई। कोहरे की घनी चादर ओढ़े इस मौसम की सर्द दस्तक ने कइयों की मुसीबतें भी बढ़ा दीं। सड़कों के किनारे, गलियों व मोहल्लों में लोग अलाव जलाकर ठंड से राहत पाने की कोशिश करते दिखे। लेकिन इसने बेघर लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। सरकार ने कुछ रैन बसेरे बनाए हैं जो नाकाफी हैं।

दिल्ली में सोमवार का दिन सबसे सर्द रहा। इसने पिछले पांच सालों के 22 दिसंबर का रेकॉर्ड तोड़ा। यहां न्यूनतम तापमान 4.2 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया। पूरा दिल्ली घने कोहरे की चादर में लिपटा रहा। इसके सुबह दृश्यता शून्य तक थी। लेकिन नौ बजे तक यह सुधरकर 150 मीटर हो गई थी जो दोपहर तक बढ़कर 500 मीटर हो गई। राजधानी में दोपहर तक घने कोहरे की मोटी परत छाई रही। इसके कारण आम जनजीवन पर असर पड़ा। धुंंध व कोहरे के कारण स्कूलों में हाजिरी कम रही। तड़के कम दृश्यता के कारण उड़ान और ट्रेन परिचालन सेवा प्रभावित हुई। यहां केआइजीआइ हवाई अड्डे पर कई उड़ानों में देरी हुई।

उत्तर रेलवे के मुख्य प्रवक्ता नीरज शर्मा के मुताबिक कोलकाता, रांची, भुवनेश्वर, सियालदह, मगध से आने वाली राजधानी एक्सप्रेस सहित उत्तर को जाने वाली करीब 70 ट्रेनें कई घंटों की देरी से चलीं। कई ट्रेनें पहले ही रद्द कर दी गईं ताकि लोग उनके टिकट नहीं लें और ऐन वक्त पर होने वाली परेशानी से बच सकें। फिर भी जो यात्री ट्रनों की लेटलतीफी के कारण अपने टिकट रद्द कराना चाहें उनको इसकी सहूलियत दी गई है। रेलवे प्रवक्ता ने बताया कि लोगों को हेल्पलाइन की सुविधा के अलावा हमने नियमित अंतराल पर ट्रेनों की स्थिति को लेकर यात्रियों को सूचना देने की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि प्रभावित ट्रेनों के प्रस्थान के समय को बदले समय से चलाया जा रहा है ताकि लोगों को अपनी यात्रा रद्द नहीं करनी पड़े।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.