ताज़ा खबर
 

अविश्वास प्रस्ताव का नंबर गेम: बीजेपी के इन सांसदों पर डोरे डाल रहा विपक्ष, दो बीमार, एक विदेश में

सूत्रों के मुताबिक विपक्ष ने ऐसे बीजेपी सांसदों की एक लिस्ट बनाई है जो विभिन्न मौकों पर पार्टी नेतृत्व का विरोध कर चुके हैं। इनमें उत्तर प्रदेश से आने वाले चार दलित सांसद शामिल हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

नरेंद्र मोदी सरकार पहली बार कल (20 जुलाई) लोकसभा में अविश्वास मत का सामना करेगी। हालांकि, सरकार पर कोई आंच नहीं आएगी क्योंकि उसके पास पर्याप्त संख्या में लोकसभा सांसदों का समर्थन है। बावजूद इसके दोनों पक्ष की तरफ से अधिक से अधिक सांसदों को अपने पाले में बटोरने की कोशिशें जारी है। इसी क्रम में विपक्षी खेमा बीजेपी के उन सांसदों पर डोरे डाल रही है जो पार्टी से नाराज बताए जा रहे हैं। हालांकि, पार्टी के खिलाफ अक्सर बयान देने वाले पटना साहिब से बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने साफ कर दिया है कि संकट की इस घड़ी में वो मोदी सरकार के साथ हैं। मगर बिहार से ही बीजेपी के दूसरे सांसद कीर्ति झा आजाद ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा है कि ये दोनों सांसद किस तरफ वोट करते हैं यह देखना दिलचस्प होगा।

सूत्रों के मुताबिक विपक्ष ने ऐसे बीजेपी सांसदों की एक लिस्ट बनाई है जो विभिन्न मौकों पर पार्टी नेतृत्व का विरोध कर चुके हैं। इनमें उत्तर प्रदेश से आने वाले चार दलित सांसद शामिल हैं। इन सांसदों में बहराईच से सांसद साबित्री बाई फूले, रॉबर्ट्सगंज से छोटेलाल खरवार, इटावा सांसद अशोक दोहरे, नगीना से सांसद यशवंत सिंह शामिल हैं। हरियाणा के कुरुक्षेत्र से बीजेपी सांसद राजकुमार सैनी पर भी विपक्षी खेमा नजरें गड़ाए हुए है। हालांकि, बीजेपी का मानना है कि साबित्री बाई फूले को छोड़कर सभी चार सांसद पार्टी के पक्ष में वोट करेंगे।

इनके अलावा बीजेपी के दो सांसद फिलहाल बीमार चल रहे हैं जबकि एक विदेश में हैं। बावजूद इसके पार्टी अविश्वास प्रस्ताव को लेकर निश्चिंत है। दरअसल, पार्टी सरकार के पक्ष में अधिक से अधिक सांसदों को खड़ा करना चाहती है ताकि सियासी मोर्चे पर विपक्ष को जवाब दिया जा सके। उधर विपक्ष भी जानता है कि सदन में उसकी हार तय है, बावजूद इसके वो नंबर गेम में बिजी है। दरअसल दोनों पक्ष लोकतंत्र की लड़ाई में अंकों की बाजीगरी करना चाहते हैं ताकि 2019 के चुनावों के लिए संदेश दिया जा सके। बता दें कि मौजूदा लोकसभा में 535 सदस्यों में से 312 के समर्थन होने का दावा बीजेपी कर रही है। इनमें से 274 तो अकेले बीजेपी के ही सांसद हैं जबकि बहुमत के लिए मात्र 268 वोट की ही जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App