ताज़ा खबर
 

उमर ने भाजपा से गठजोड़ की संभावना को नकारा

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370, समान नागरिक संहिता और बाबरी मस्जिद जैसे मुद्दों को देखते हुए भाजपा के साथ चुनाव बाद गठबंधन की संभावना खारिज कर दी। साथ ही उन्होंने किसी दूसरी पार्टी के साथ भी गठबंधन करने से इनकार किया। 87 सदस्यीय राज्य विधानसभा के चुनाव के नतीजे मंगलवार को आएंगे। […]
Author December 23, 2014 11:41 am
मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370, समान नागरिक संहिता और बाबरी मस्जिद जैसे मुद्दों को देखते हुए भाजपा के साथ चुनाव बाद गठबंधन की संभावना खारिज कर दी

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने अनुच्छेद 370, समान नागरिक संहिता और बाबरी मस्जिद जैसे मुद्दों को देखते हुए भाजपा के साथ चुनाव बाद गठबंधन की संभावना खारिज कर दी। साथ ही उन्होंने किसी दूसरी पार्टी के साथ भी गठबंधन करने से इनकार किया। 87 सदस्यीय राज्य विधानसभा के चुनाव के नतीजे मंगलवार को आएंगे। उन्होंने कहा कि साफ है कि कोई भी पार्टी अपने दम पर सरकार बनाने नहीं जा रही। यह देखना बाकी है कि वास्तविक संख्या इन तथाकथित चुनाव बाद सर्वेक्षणों के कितने करीब होती है। उमर ने अपने पार्टी के अच्छे प्रदर्शन का भरोसा जताया।

अगली सरकार के गठन में भाजपा के साथ सहयोग करने की संभावना के सवाल पर उमर ने कहा कि राज्य के लोगों के लिए जो मुद्दे महत्त्वपूर्ण हैं, उन पर भाजपा के रुख को देखते हुए नेशनल कांफ्रेंस इस पार्टी के साथ गठबंधन की कल्पना भी नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि भाजपा (चुनाव प्रचार के दौरान) अनुच्छेद 370 पर चुप रही लेकिन वह इसे लेकर अपने रुख से पीछे नहीं हटी है। राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद व समान नागरिक संहिता पर भी वह अपने रुख से पीछे नहीं हटी है। अब तक हमारे प्रधानमंत्री देश के कुछ हिस्सों में जारी जबरन धर्मांतरण के मुद्दे पर चुप हैं।

उमर ने कहा कि नेशनल कांफ्रेंस की भाजपा, पीडीपी या कांग्रेस के साथ चुनाव बाद गठबंधन के लिए कोई बातचीत नहीं हुई है।

ट्विटर पर भारत रत्न के लिए पूर्व प्रधामनंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम का समर्थन करने को लेकर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इसे भाजपा के करीब जाने के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा- क्या सच में कोई विश्वास कर सकता है कि एक ट्वीट से गठबंधन बन जाएगा? इसका कुछ और मतलब न निकालें। उन्होंने वाजपेयी को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान देने का समर्थन ट्विटर पर किया क्योंकि 25 दिसंबर को उनका जन्मदिन है। उन्होंने अपने मन में वाजपेयी के प्रति बहुत सम्मान होने की बात कहते हुए कहा कि मौजूदा सरकार के लिए उपयुक्त होगा कि वह भारत रत्न देकर वाजपेयी साहब के योगदान को मान्यता दे।

उमर ने कहा कि राज्य में भारी मतदान को पाकिस्तान पर रणनीतिक जीत के तौर पर पेश करना मतदान को एक तरह से ‘जनमत संग्रह’ में तब्दील करना है। उन्होंने इस बाबत राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की राय से असहमति जताते हुए कहा कि मैं जानता हूं कि चीजों को देखने का उनका अपना नजरिया है। समस्या है कि जब आप चुनाव, विधानसभा चुनाव कराते हैं और उसे पाकिस्तान पर रणनीतिक विजय में तब्दील करते हैं तो आप विधानसभा चुनाव को कहीं न कहीं जनमत संग्रह के रूप में तब्दील कर देते हैं। ऐसा करके आप भविष्य के चुनावों के लिए समस्याएं पैदा कर रहे हैं।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.