ताज़ा खबर
 

पराक्रम दिवस पर गूंजे देशभक्ति के सुर, साथ-साथ दिखे मोदी और ममता बनर्जी पर नहीं हुई बात

शनिवार को पीएम मोदी के बंगाल दौरे पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उनके साथ काफी देर तक रहीं लेकिन इसके बावजूद भी दोनों लोगों के बीच कोई बातचीत नहीं हुई। हालाँकि पीएम ने इस दौरान राज्यपाल जगदीप धनखड़ से बातचीत की।

narendra modi , mamta banerjee , prakram diwasपराक्रम दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी के साथ मंच पर मौजूद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (फोटो – एएनआई)

पराक्रम दिवस के अवसर पर कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी भी शामिल होने पहुंचे थे। इस दौरान पीएम मोदी के साथ बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी मौजूद थे। कार्यक्रम में नेताजी के याद में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किये गए थे। इस दौरान  कार्यक्रम में देशभक्ति के सुर भी खूब गूंजे। कार्यक्रम में पीएम मोदी ममता बनर्जी के बगल में ही बैठे थे लेकिन उनके बीच कोई भी बातचीत नहीं हुई। 

शनिवार को पीएम मोदी के बंगाल दौरे पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उनके साथ काफी देर तक रहीं लेकिन इसके बावजूद भी दोनों लोगों के बीच कोई बातचीत नहीं हुई। हालाँकि पीएम ने इस दौरान राज्यपाल जगदीप धनखड़ से बातचीत की। कोलकाता नेशनल लाइब्रेरी में भ्रमण के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने वहां मौजूद अधिकारी से लाइब्रेरी और नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी जानकारी तो ली परंतु ममता बनर्जी से उन्होंने कोई बात नहीं की। यहां तक कि दोनों ही नेता एक-दूसरे के नज़दीक ही खड़े थे, इसके बावजूद भी उनके बीच किसी भी प्रकार का कोई संवाद नहीं हुआ। हालाँकि पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत में मुख्यमंत्री को बहन ममता कहकर संबोधित किया।

विक्टोरिया मेमोरियल में कार्यक्रम की शुरुआत में नेताजी की याद में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। इस दौरान मशहूर गायिका ऊषा उत्थुप, बॉलीवुड सिंगर पपोन और सौम्यजीत ने शानदार प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में उषा उत्थुप ने रवीन्द्र नाथ ठाकुर का प्रसिद्ध गीत एकला चलो भी गाया।

कोलकाता में आयोजित कार्यक्रम में जैसे ही ममता बनर्जी ने अपना संबोधन शुरू किया वैसे ही कई लोगों ने जय श्री राम का नारा लगाना शुरू कर दिया। जिसपर ममता बनर्जी बिफर उठीं। ममता ने कहा कि अगर आप किसी को सरकारी कार्यक्रम में बुलाते हैं तो उसकी बेइज्जती नहीं करनी चाहिए। ममता ने इस दौरान आयोजकों के आग्रह करने पर भी बोलने से मना कर दिया। 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मुझे लगता है कि सरकार के प्रोग्राम की कोई डिग्निटी होनी चाहिए। यह गर्वमेंट का प्रोग्राम है कोई पॉलिटिकल पार्टी का प्रोग्राम नहीं है। ये सभी पॉलिटिकल पार्टी और पब्लिक का प्रोग्राम है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री जी और कल्चरल मिनिस्ट्री की आभारी हूँ कि उन्होंने कोलकाता में यह प्रोग्राम बनाया। लेकिन किसी को निमंत्रित करके उसको बेइज्जत करना यह आपको शोभा नहीं देता। इसलिए मैं कुछ नहीं कहने जा रही हूं। उसके बाद ममता जय हिन्द जय बांग्ला बोलकर वापस अपने सीट पर बैठ गयीं।

Next Stories
1 LAC से लेकर LOC तक भारत का अवतार देख रही दुनिया, चीन-पाक पर पीएम मोदी बोले- मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम
2 सरकार ने बताया, पाकिस्तान को नहीं दी कोरोना वैक्सीन, जानें कौन से देश ले रहे भारत से मदद
3 जब ममता बनर्जी को नहीं समझ आई लालू यादव की बात, बताया रेलवे को कैसे पहुंचाया था फायदा
यह पढ़ा क्या?
X