ताज़ा खबर
 

विश्व परिक्रमा : बुजुर्ग सिख महिला के समर्थन में आए हजारों लोग

गुरमीत कौर सहोता (75) वर्ष 2009 में ब्रिटेन आई थीं और वेस्ट मिडलैंड के स्मेथविक में तब से रह रही हैं। कानूनी तौर पर वह बिना दस्तावेजी प्रक्रिया पूरी किए देश में रहने वाली प्रवासी हैं और आव्रजन नियमों के तहत उनके भारत वापस भेजे जाने के आसार हैं, भले ही वहां उनके परिवार का कोई सदस्य नहीं है। भारत में कोई नहीं होने के तथ्य ने लोगों का ध्यान आर्किषत किया और स्मेथविक का स्थानीय समुदाय उनके समर्थन में आया।

ब्रिटेन में करीब दस साल से रह रहीं और यहीं अपना घर बना चुकीं एक बुजुर्ग सिख विधवा महिला को जबरन भारत नहीं भेजने के लिए आॅनलाइन याचिका शुरू की गई है जिस पर अब तक करीब 62 हजार लोग दस्तखत कर चुके हैं। गुरमीत कौर सहोता (75) वर्ष 2009 में ब्रिटेन आई थीं और वेस्ट मिडलैंड के स्मेथविक में तब से रह रही हैं। कानूनी तौर पर वह बिना दस्तावेजी प्रक्रिया पूरी किए देश में रहने वाली प्रवासी हैं और आव्रजन नियमों के तहत उनके भारत वापस भेजे जाने के आसार हैं, भले ही वहां उनके परिवार का कोई सदस्य नहीं है। भारत में कोई नहीं होने के तथ्य ने लोगों का ध्यान आर्किषत किया और स्मेथविक का स्थानीय समुदाय उनके समर्थन में आया।

ब्रिटेन के गृह विभाग और ब्रिटिश संसद को संबोधित ‘चेंज डॉट ओरआजी’ पर शुरू आॅनलाइन याचिका में कहा गया कि गुरमीत का ब्रिटेन में कोई परिवार नहीं है न ही पंजाब में कोई परिवार है, इसलिए स्मेथविक के सिख समुदाय ने उन्हें अंगीकार किया है। गुरमीत ने ब्रिटेन में रहने के लिए आवेदन किया था, लेकिन उसे यह तथ्य जानते हुए अस्वीकार कर दिया गया कि भारत (पंजाब) में उनका कोई परिवार नहीं है। दुभाषिये के जरिये सहोता ने ‘र्बिमंघम लाइव’ से कहा कि अगर उन्हें भारत वापस जाना पड़ा तो उनके लिए कोई जगह नहीं है क्योंकि वहां उनका कोई परिवार नहीं है।

उन्होंने कहा कि वहां वापस जाकर अकेले रहने पर अकेलापन और मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर को लेकर भयभीत हूं। स्मेथविक मेरा असली घर है, यह वह स्थान है जहां मैं समुदाय के लिए काम करती हूं। यह वह स्थान है जिसे मैं जानती हूं और जहां के लोगों को प्यार करती हूं और वे मेरे परिवार के सदस्य बन गए हैं। इस बीच, गृह विभाग को उद्धृत करते हुए कहा गया है उसने सहोता को सूचित किया है कि वह कैसे कानूनी तौर पर ब्रिटेन में रहने के लिए आवेदन कर सकती हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 व्यक्तित्व: शकील अहमद- शीर्ष वैज्ञानिकों की सूची में बना ली जगह
2 कांग्रेस स्पष्ट करे कि वह फारुक, महबूबा के राष्ट्र विरोधी बयानों के साथ या खिलाफ, बोले रविशंकर प्रसाद
3 व‍िपक्ष के कई नेताओं के ख‍िलाफ जांच के बीच ED चीफ को म‍िला एक साल का सेवा-व‍िस्‍तार
ये पढ़ा क्या ?
X