ताज़ा खबर
 

बिहार नतीजों का ब्रांड मोदी पर कोई असर नहीं: जेटली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व को मजबूत, निर्णायक और लोकप्रिय करार देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि बिहार नतीजों का ब्रांड मोदी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा..

Author नई दिल्ली | November 11, 2015 00:44 am
अरुण जेटली को रक्षा मंत्रालय देकर पीएम मोदी बड़े मंत्रालयों को अपने विश्‍वस्‍त लोगों के पास ही रखना चाहते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व को मजबूत, निर्णायक और लोकप्रिय करार देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि बिहार नतीजों का ब्रांड मोदी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। जेटली की यह टिप्पणी नीतीश कुमार नीत महागठबंधन को बिहार चुनाव में भाजपा नीत राजग के मुकाबले मिली भारी जीत के बाद आई है। जद (एकी), राजद और कांगे्रस गठबंधन ने 243 सदस्यीय विधानसभा में 178 सीटों पर सफलता प्राप्त की जबकि राजग को महज 58 सीटों पर संतोष करना पड़ा।

यह पूछने पर कि क्या बिहार नतीजों का ब्रांड मोदी पर कोई प्रभाव पड़ेगा, जेटली ने कहा- नहीं। ऐसा कुछ भी नहीं है। ब्रांड मीडिया द्वारा गढ़ा एक शब्द है। उनका नेतृत्व मजबूत, निर्णायक और लोकप्रिय है। वित्त मंत्री ने बिहार चुनाव नतीजों का निवेशकों की भावना पर कोई प्रभाव होने की बात को नजरअंदाज कर दिया और कहा कि आर्थिक सुधार जारी रहेंगे।

वरिष्ठ भाजपा नेता ने पत्रकारों को बताया- चुनाव प्रभाव से निवेशकों का विश्वास और भावनाएं प्रभावित नहीं होंगी। मुझे लगता है कि निवेशक बहुत बुद्धिमान व्यक्ति होते हैं और वे इस सरकार का प्रदर्शन देखेंगे। वे हमारी कार्य शैली देखकर फैसला करेंगे और हम सुशासन मुहैया कराएंगे। कई सुधार कार्यपालिका निर्णय के तहत हैं। वे जारी रहेंगे। कई विधायी मुद्दों को संसद ने पारित कर दिया है। कुछ मामलों में विलंब हुआ है किंतु उनका समाधान किया जाएगा।

लंबित जीएसटी विधेयक के बारे में पूछने पर जेटली ने कहा कि यह सरकार के लिए एक प्राथमिकता है और वह इसे पारित कराने की चेष्टा करेगी। उन्होंने उम्मीद व्यक्त की कि बिहार इस कानून का समर्थन करेगा क्योंकि वह उपभोग करने वाला राज्य है। जो परोक्ष कर कानून से लाभान्वित होगा। उन्होंने कहा कि जद (एकी) ने निचले सदन में इसका समर्थन किया था। अगर नीतीश कुमार एक जिम्मेदार नेता हंै, जो कि विकास के आधार पर जीतकर आए हैं तो वे निश्चित तौर पर बिहार के लिए अधिक राजस्व चाहेंगे।

यह पूछने पर कि क्या वे जीएसटी के समर्थन के लिए नीतीश से बात करेंगे, उन्होंने कहा- मैं नई सरकार से बात क रूंगा कि उन्हें विधेयक का समर्थन करना चाहिए। सरकार की एक अपै्रल 2016 से जीएसटी लागू करने की योजना थी किंतु संविधान संशोधन विधेयक राज्यसभा में अटक गया क्योंकि वहां राजग के पास बहुमत नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App