No Confidence Motion: Ye Munna Bhai ka Pappi Jhappi Area nahin hai says Union Minister Harsimrat Kaur Badal on Rahul Gandhi Hug with Prime Minister Narendra Modi - राहुल गांधी ने कहा कुछ ऐसा कि नाराज हरसिमरत कौर बोलीं- ये संसद है, मुन्नाभाई का पप्पी-झप्पी एरिया नहीं - Jansatta
ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी ने कहा कुछ ऐसा कि नाराज हरसिमरत कौर बोलीं- ये संसद है, मुन्नाभाई का पप्पी-झप्पी एरिया नहीं

अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गले मिलने पर केंद्रीय मंत्री और शिरोमणि अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल शुक्रवार (20 जुलाई) को भड़क गईं।

कांग्रेस अध्यक्ष जब मोदी सरकार पर अपने भाषण में हमलावर हो रहे थे, तब हरसिमरत मुस्कुरा रही थीं। (फोटोः ANI)

अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गले मिलने पर केंद्रीय मंत्री और शिरोमणि अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल शुक्रवार (20 जुलाई) को भड़क गईं। उन्होंने कहा कि यह संसद है। न कि मुन्नाभाई का पप्पी-झप्पी एरिया। लोकसभा की स्पीकर सुमित्रा महाजन ने फौरन इस पर उन्हें टोका और पूछा, “आप (हरसिमरत) तो मुस्कुरा रही थीं?”

हुआ यूं कि कांग्रेस अध्यक्ष जब मोदी सरकार पर अपने भाषण में हमले बोल रहे थे, तब हरसिमरत सीट पर बैठ कर मुस्कुरा रही थीं। राहुल ने इस बात का जिक्र सबके सामने भाषण में कर दिया, जिसके बाद अंत में उन्होंने खुद को पप्पू बताए जाने पर बीजेपी पर तंज कसा।

राहुल ने कहा, “आप (बीजेपी) लोगों के अंदर मेरे लिए नफरत है। आप मुझे पप्पू और बहतु गालियां देकर बुला सकते हैं। लेकिन मेरे अंदर आपके लिए नफरत नहीं है।”

यह कहते ही वह पीएम की सीट पर पहुंचे, जिसके बाद वह झुक कर मोदी के गले मिले। मोदी ने उनका अभिवादन स्वीकारने के बाद दबी जुबान में उनसे कुछ कहा और फिर हाथ मिलाया।

कांग्रेस अध्यक्ष ने इससे पहले कई मसलों को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला। कहा, “पीएम देश के चौकीदार नहीं, बल्कि भागीदार हैं। वह अपने मित्रों की जेब में देश के पैसे डलवाना चाहते हैं।” कांग्रेस ने इसके अलावा आरोप लगाया कि पीएम ने सैनिकों को धोखा दिया। उन्होंने डोकलाम का मुद्दा नहीं उठाया।

राहुल के मुताबिक, “पीएम विदेश तो जाते हैं। लेकिन वह छोटा कारोबारियों और दुकानदारों से बात नहीं करते।” राफेल डील पर उन्होंने कहा, “रक्षा मंत्री ने कहा कि फ्रांस के साथ रफेल की डील पर गोपनीयता का पहलू था। मैं व्यक्तिगत तौर पर फ्रांस के पीएम से मिला और उनसे पूछा कि क्या कोई ऐसी बात थी। उन्होंने साफ किया कि नहीं, ऐसा कुछ नहीं था। जादू से पीएम ने रफेल का दाम बढ़ाकर 1600 करोड़ रुपए कर दिए।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App