ताज़ा खबर
 

अविश्वास प्रस्ताव: ‘प्रधानमंत्री अपनी आंख मेरी आंख में नहीं डाल सकते’, बोले राहुल गांधी तो हंस पड़े पीएम नरेंद्र मोदी

राहुल ने आरोप लगाया कि जब पीएम नरेंद्र मोदी गुजरात में चीन के राष्ट्रपति के साथ झूला झूल रहे थे, उस वक्त चीन के हजार सैनिक हिंदुस्तानी इलाके में घुस आए थे।

Author नई दिल्ली | July 20, 2018 2:02 PM
Parliament Monsoon Session 2018: राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला।

No Confidence Motion against Nda Government in Lok Sabha: मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर शुक्रवार को लोकसभा में गर्मागर्म बहस हुई। सत्ताधारी बीजेपी और कांग्रेस ने एक दूसरे पर जमकर निशाना साधा। कांग्रेस की ओर से पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोर्चा खोला। राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, ‘पीएम मेरी आंख से आंख नहीं मिला सकते।’ उनका यह कहना भर था कि पीएम नरेंद्र मोदी समेत कई सांसद हंसने लगे। राहुल ने आरोप लगाया कि जब पीएम नरेंद्र मोदी गुजरात में चीन के राष्ट्रपति के साथ झूला झूल रहे थे, उस वक्त चीन के हजार सैनिक हिंदुस्तानी इलाके में घुस आए थे। राहुल गांधी ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को भी निशाने पर लिया।

उन्होंने कहा कि रक्षामंत्री ने यह कहा था कि फ्रांस से राफेल डील पर सीक्रेसी बरते जाने को लेकर करार हुआ था। राहुल के मुताबिक, वह खुद फ्रांस के राष्ट्रपति से मिले और पूछा कि क्या इस तरह का कोई करार हुआ है तो उन्होंने इनकार किया। राहुल ने यह भी आरोप लगाया कि मोदी सरकार की मार्केटिंग पर जमकर पैसा बहाया जा रहा है। राहुल गांधी ने अपने भाषण के दौरान विपक्ष से कहा, ‘डरो मत, सच्चाई से डरो मत।’ राहुल ने आरोप लगाया कि किसानों की तकलीफ दूर नहीं की गई।

इससे पहले, अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत तेलुगु देशम पार्टी ने की। पार्टी के नेता जयदेव गल्ला ने कहा कि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के विभाजन का सबसे ज्यादा नुकसान आंध्र प्रदेश को हुआ। गल्ला ने आरोप लगाया कि संसद के अंदर और बाहर कई वादे किए गए थे, लेकिन कुछ भी पूरा नहीं किया। गल्ला ने पीएम मोदी के एक भाषण का भी जिक्र किया और कहा कि प्रधानमंत्री अपने कहे शब्द खुद भूल गए। उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश की जनता बीजेपी को माफ नहीं करेगी।

इससे पहले, सदन की शुरुआत होते ही कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने चर्चा के लिए पार्टियों को दिए गए वक्त पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि चर्चा के लिए समसीमा नहीं होनी चाहिए। उनकी इस मांग का तृणमूल कांग्रेस के सदस्य कल्याण बनर्जी ने समर्थन किया। उधर, बीजू जनता दल ने सदन की कार्यवाही से वॉकआउट किया। उन्होंने इसकी वजह एनडीए सरकार द्वारा कथित तौर पर ओडिशा की अनदेखी बताई।

(इनपुट्स: आईएएनएस)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App