ताज़ा खबर
 

नीतीश कुमार ने नरेंद्र मोदी से उनकी ‘DNA’ संबंधी टिप्पणी वापस लेने को कहा

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गत 25 जुलाई को मुजफ्फरपुर में एक रैली के दौरान अपने डीएनए को लेकर की गयी टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जताते हुए आज कहा कि राज्य के लोगों का एक बड़ा वर्ग इसे अपमान के तौर पर देख रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री से यह टिप्पणी वापस लेने को भी कहा।

Author August 5, 2015 6:40 PM
नीतीश ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी, कहा- DNA वाले कमेंट को लें वापस (फोटो: भाषा)

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गत 25 जुलाई को मुजफ्फरपुर में एक रैली के दौरान अपने डीएनए को लेकर की गयी टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जताते हुए आज कहा कि राज्य के लोगों का एक बड़ा वर्ग इसे अपमान के तौर पर देख रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री से यह टिप्पणी वापस लेने को भी कहा।

नीतीश ने मोदी को कड़े शब्दों में एक खुला पत्र लिखा है जिसे उन्होंने सोशल मीडिया साइट्स फेसबुक तथा ट्विटर पर भी जारी किया है। इस पत्र में नीतीश ने कहा है कि यह टिप्पणी उस पद की गरिमा के अनुकूल नहीं है जिस पद पर मोदी हैं।

उन्होंने कहा है ‘‘राज्य के लोगों के एक बड़े वर्ग ने और अन्य ने आपके शब्दों को अपमान की तरह लिया है। हममें से ज्यादातर लोगों को लगता है कि आपके द्वारा की गई यह टिप्पणी उस पद की गरिमा के अनुकूल नहीं है जिस पद पर आप हैं।’’

मोदी के आगामी 9 अगस्त को बिहार के गया जिला के प्रस्तावित दौरे का उल्लेख करते हुए नीतीश ने कहा कि वह उनकी ओर से यह पत्र लिख रहे हैं जो लोग उनकी टिप्पणी से आहत हुए हैं।

पत्र में नीतीश ने लिखा है ‘‘मुझे इस बात में कोई संदेह नहीं है कि ऐसा करने से :डीएनए संबंधी टिप्पणी वापस लेने से: न केवल लोगों की आहत भावनाओं पर मरहम लगेगा बल्कि उनके मन में आपके प्रति सम्मान और बढ़ेगा।’’

नीतीश ने लिखा है कि आप (मोदी) फिर बिहार के दौरे पर आने वाले हैं इसलिए इस पत्र के माध्यम से वह उनसे आग्रह करते हैं कि वह अपने शब्द: :डीएनए: को लेकर की गयी टिप्पणी को वापस ले लें।

वर्ष 2010 में पटना में आयोजित भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समय वर्ष 2008 की कोसी त्रासदी में तत्कालीन गुजरात सरकार द्वारा की गयी सहायता को लेकर अखबारों में छपे एक इश्तेहार से नाराज नीतीश द्वारा तत्कालीन मुख्यमंत्री मोदी सहित भाजपा के अन्य वरिष्ठ नेताओं के सम्मान में दिए गए भोज को रद्द करने से आहत मोदी ने गत 25 जुलाई को मुजफ्फरपुर में अपनी एक रैली के दौरान कथित तौर पर नीतीश के डीएनए में गड़बड़ी होने संबंधी टिप्पणी की थी।

नीतीश ने पत्र में कहा है, ‘कुछ दिनों पहले बिहार में एक जनसभा में आपने मेरे डीएनए पर जो टिप्पणी की, उससे मुझे और समाज के एक बडे तबके को गहरी ठेस पहुंची है। मेरा मानना है कि आपके इन शब्दों से न सिर्फ बिहार बल्कि प्रदेश से बाहर रहने वाले लोगों ने भी खुद को अपमानित महसूस किया है। आप कुछ दिनों में फिर बिहार आने वाले हैं, मैं आपको इन सभी लोगों की ओर से यह पत्र लिख रहा हूं, जो आपकी इस टिप्पणी से आहत हुए हैं। यह आम विचार है कि आपके द्वारा की गयी यह टिप्पणी आपके पद की गरिमा के अनुरुप नहीं है।’

मुख्यमंत्री ने कहा है ‘इसके पहले आपके साथी और भाजपा नेता नितिन गडकरी ने कहा था कि ‘जातिवाद बिहार के डीएनए में है’। यह एक विडम्बना ही है कि पिछले ही साल इन्हीं बिहारवासियों ने आप पर विश्वास करते हुए आपकी अगुआई में बहुमत की सरकार बनाने में महत्वपूर्ण योगदान किया था। इस राज्य में मानव सभ्यता फलीफुली और इस धरती में इतिहास की अनेक महान विभूतियों को जन्म दिया है।’

उन्होंने कहा है ‘मैं बिहार का बेटा हूं, इस कारण मेरा और बिहार के लोगों का भी डीएनए एक जैसा ही है। मोदी जी, आप जानते हैं कि मेरे पिता एक स्वतंत्रता सेनानी थे और मां एक सामान्य गृहिणी। मैं बिहार के ग्रामीण परिवेश के एक साधारण परिवार में पला बढ़ा हूं। 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में मैंने गांधी, लोहिया, जेपी के आदर्शों पर चलने का प्रयत्न किया है और अपनी क्षमता के अनुसार जनता के हित के लिए काम किया है। हमारा यह मानना है कि आपके वक्तव्य ने मेरे वंश पर सवाल तो उठाया ही है, साथ ही बिहार की विरासत और बिहारी अस्मिता को भी ठेस पहुंचायी है। इस तरह के वक्तव्य इस धारणा को भी बल देते हैं कि आप और आपकी पार्टी हम बिहारवासियों के प्रति पूर्वाग्रह से ग्रसित है। मुझे आश्चर्य होता है कि आपके सचेत विवेक ने इन वक्तव्यों की गंभीरता को कैसे नहीं समझा’।

नीतीश ने लिखा है ‘अत: इस पत्र के माध्यम से मेरा आपसे :मोदी से: अनुरोध है कि अपने शब्दों को वापस लेने पर विचार करें। मुझे पूरा विश्वास है कि ऐसा करने से लोगों की आहत भावनाओं को राहत मिलेगी। जिससे आपके प्रति न सिर्फ आपको सम्मान बढेगा, बल्कि उनकी नजरों में आपका पद और भी उंचा हो जाएगा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App