ताज़ा खबर
 

शराबबंदी में लापरवाही पर दस साल तक थाने में तैनाती नहीं: नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि शराबबंदी लागू करने में लापरवाही करने वाले अधिकारी और पुलिस पदाधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Author भागलपुर | April 27, 2016 1:21 AM
CM नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि शराबबंदी लागू करने में लापरवाही करने वाले अधिकारी और पुलिस पदाधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिस थाना अध्यक्ष के इलाके में शराबबंदी को लेकर गड़बड़ी मिलेगी उनकी अगले दस साल तक थाने में तैनाती नहीं की जाएगी।

यहां एक मद्य निषेध कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए नीतीश ने कहा कि शराबबंदी लागू करने में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी और पुलिस पदाधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिस थानाध्यक्ष के इलाके में गड़बड़ी पाई जाती है उनकी अगले दस साल तक थाना में तैनाती नहीं की जाएगी।

शराबबंदी में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के योगदान के संदर्भ में मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले साल जुलाई में पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित महिलाओं के स्वयं सहायता समूह का कार्यक्रम के दौरान स्वयं सहायता समूह की कुछ महिलाओं द्वारा शराबबंदी की मांग की थी। इस पर हमने कहा था कि अगली बार सरकार में आने पर शराबबंदी लागू की जाएगी। उन्होंने कहा कि गत 20 नवंबर को शपथ ग्रहण के पश्चात 26 नवंबर को मद्य निषेध दिवस के अवसर पर आयोजित सार्वजनिक कार्यक्रम में हमने एक अप्रैल 2016 से शराबबंदी लागू करने और इसके लिए नई उत्पाद नीति लाने की घोषणा की थी।

बिहार के लागू की गई पूर्णशराबबंदी और इसके लिए बनाए गए कानून की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री नीतीश ने सभा में मौजूद जीविका स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से कहा कि इसे लागू करवाने में आपका अहम सहयोग मिला है। जिस तरह का जन अभियान चलाया गया उससे शराबबंदी के पक्ष में एक माहौल का निर्माण हुआ। उन्होंने जीविका समूह की महिलाओं से कहा कि यह आपकी जीत है नारी शक्ति की जीत है।

मुख्यमंत्री ने सभा में मौजूद महिलाओं से कहा कि अवैध शराब के कारोबार, बिक्री और उपभोग से संबंधित जानकारी तो आपसे ही मिलेगी। आपके पास जो सूचना है उसे दीजिए। इसके लिए नियंत्रण कक्ष स्थापित कर नंबर भी जारी किया गया है। प्राप्त शिकायतों पर अविलंब कार्रवाई की जाएगी। अवैध शराब बनाने वालों के भट्ठियों को तोड दीजिए, चिंता मत कीजिए सरकार आपके साथ खड़ी है। उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग हमेशा मानते रहते हैं कि अच्छा कार्य या आंदोलन विफल हो जाए। उन्हें बोलने दीजिए शराबबंदी एक सामाजिक आंदोलन है जो समाज में परिवर्तन लाएगा।

नीतीश ने कहा कि शराबबंदी से लोगों का करोड़ों रुपए बचेगा जिसे वे अन्य क्षेत्र में खर्च करेंगे जिससे अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। उन्होंने कहा कि अगर शराबबंदी बिहार में लागू हुई है तो झारखंड में क्यों नहीं। उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, ओड़ीशा में क्यों नहीं, पूरे भारत में क्यों नहीं। आने वाले दिनों में यह नारा लगेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App