ताज़ा खबर
 

नीतीश कुमार: शत्रुघ्न सिन्हा ने पत्नी के लिए नहीं मांगा टिकट

बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस बात को खारिज किया कि उनके बीच हाल में हुई मुलाकातें शत्रुघ्न की पत्नी पूनम सिन्हा को जेडीयू का टिकट दिलाने के मकसद से की गईं।

Author August 4, 2015 8:33 AM
शत्रुघ्न सिन्हा ने पत्नी के लिए नहीं मांगा टिकट: नीतीश कुमार (फोटो: भाषा)

बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस बात को खारिज किया कि उनके बीच हाल में हुई मुलाकातें शत्रुघ्न की पत्नी पूनम सिन्हा को जेडीयू का टिकट दिलाने के मकसद से की गईं। नीतीश ने कहा कि शत्रुघ्न सिन्हा बिहार के गौरव हैं और ऊंचे दर्जे के अभिनेता रहे हैं। व्यक्तिगत वजहों से हमारी मुलाकातें हुईं, जिनमें किसी तरह की राजनीतिक चर्चा नहीं की गई।

नीतीश ने कहा कि सिन्हा यहां पर बिहारी बाबू के नाम से मशहूर हैं और हम उनके विचारों को बिहार के विकास में शामिल करते हैं। उल्लेखनीय है कि नीतीश कुमार जनता परिवार के घोषित सीएम उम्मीदवार हैं। इस साल अक्टूबर में राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।

मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए नीतीश ने कहा कि लोकसभा चुनाव प्रचार में राज्य को विशेष दर्जा देने का जो वादा बीजेपी ने किया था, उसे नकार दिया गया है। विधान परिषद के बाहर नीतीश ने कहा कि लोगों को इस छलावे को समझना चाहिए, यह बिहार के लोगों के साथ क्रूर मजाक है।

31 जुलाई को लोकसभा में केंद्रीय राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कुमार ने कहा कि अब तक किसी भी राज्य को विशेष दर्जा देने का प्रस्ताव नहीं है। स्पेशल पैकेज का प्रस्ताव रखा गया है। इसके साथ ही कुमार ने आरोप लगाया कि सरकार की भावना साफ नहीं है।

Also Read: शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम बिहार में जेडीयू की टिकट पर लड़ेंगी चुनाव!

नीतीश ने कहा कि हम उस भाषण की रिकॉर्डिंग लोगों को सुनाएंगे, जिसमें बिहार को विशेष दर्जा देने का मोदी ने वादा किया था। कुमार ने कहा कि इससे बड़ा मजाक नहीं हो सकता है कि पटना-मुंबई सुविधा एक्सप्रेस को पीएम ने हरी झंडी दिखाई और बाद में रेलवे ने कहा कि इस ट्रेन को नियमित नहीं, बल्कि मुसाफिरों की डिमांड के हिसाब से चलाया जाएगा।

नीतीश ने कहा कि बीजेपी स्पेशल पैकेज के नाम पर पीएम के पहले के पैकेज का जिक्र कर राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश करेगी। लेकिन बिहार की जनता परख चुकी है कि मोदी सरकार 15 महीने बाद भी वादों पर खरा नहीं उतर पाई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App