ताज़ा खबर
 

नीतीश कुमार ने गुजरात सरकार को बताया दलित विरोधी, कहा- PM चुप्पी तोड़े

2001 की तुलना में साल 2014 में दलित महिला के साथ रेप की घटनाओं में 500% की बढ़त हुई है।

Author पटना | July 21, 2016 9:14 PM
बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार। (फाइल फोटो)

बिहार के मुख्यमंत्री और जद (यू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने गुरूवार को मांग की है कि गुजरात के ऊना में दलितों पर कथित हमला करने वाले गोरक्षा दल पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए। उनके अनुसार पार्टी ने यह तय किया शरद यादव के नेतृत्व में एक सांसदों का एक दल 23 जुलाई को पीड़ितों को देखने गुजरात भेजा जाएगा। जद (यू) ने मांग की है कि प्रधानमंत्री इस मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ें। नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य और केंद्र दोनों सरकार दलितों को सुरक्षा देने में नाकाम साबित हुईं हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, ” ऊना की घटना से दलितों में डर बना हुआ है जिस कारण वो आत्महत्या तक करने को मजबूत हो रहे हैं। इस तरह की घटना गुजरात में कथित कानून व्यवस्था की हालत बयान कर देती है। यह घटना सुशासन के गुजरात मॉडल पर सवाल खड़े करती है। कुछ दलितों को सिर्फ मरी हुई गाय की खाल निकालने पर प्रताड़ित किया जा रहा है। मरे हुए जानवर की चमड़ी निकालना आज का काम नहीं है ये एक समुदाय का पैसे कमाने का सालों पुराना धंधा है।”

नीतीश ने यह भी कहा कि यह पहली बार नहीं है जब गुजरात में दलितों पर अत्याचार किया है। पिछले साल एक आरटीआई ने यह खुलासा किया कि, ” 2001 की तुलना में साल 2014 में दलित महिला के साथ रेप की घटनाओं में 500% की बढ़त हुई है। गुजरात में पिछले 15 सालों में हाशिए पर पड़े समाज पर हमले बढ़े हैं। पिछले 15 में गुजरात में दलितों पर 16,000 हमले हुए हैं। इसका मतलब हर साल गुजरात में दलितों पर 1,000 हमले हुए हैं। जो कि किसी भी सूरत में मान्य नहीं हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App