ताज़ा खबर
 

2014 में नरेंद्र मोदी ने किया था अच्छे दिन का वादा, अब नितिन गडकरी ने कहा- अच्छे दिन कभी नहीं आते

नितिन गडकरी ने कहा कि अच्छे दिन आएंगे वाली बात पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कही थी जो अब उनकी सरकार के लिए गले की हड्डी बन गयी है।

Author नई दिल्ली | September 13, 2016 23:03 pm
केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी। (पीटीआई फाइल फोटो)

नरेंद्र मोदी सरकार में परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को अच्छे दिन आएंगे वाले बयान से पल्ला झाड़ते हुए कहा है कि ये नारा गले की हड्डी बन गया है। नितिन गडकरी ने मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी द्वारा 2014 के आम चुनाव के समय दिए गए अच्छे दिनों के नारे पर कहा, ”अच्छे दिनों का जिक्र मनमोहन सिंह ने किया था, जो हमारे गले की हड्डी बन गया है। अच्छे दिन कभी नहीं आते, अच्छे दिन सिर्फ मानने से होते हैं।” इसके बाद नितिन गडकरी ने कहा कि अच्छे दिन आएंगे वाली बात पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कही थी और उन्हें ये बात स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कही थी उन्होंने कहा कि, ”मोदी जी ने कहा था कि एक बार एक एनआरआई ने मनमोहन सिंह से अच्छे दिन को लेकर सवाल पूछा था। जिसके जवाब में मनमोहन सिंह ने कहा था कि अच्छे दिन आएंगे।” गडकरी यही नहीं रुके उन्होंने इसके बाद देश को अतृत्प आत्माओं का सागर बताते हुए कहा कि, “हमारा देश अतृप्त महाआत्माओं का सागर है। जिसके पास साइकिल है वो मोटर साइकिल मांग रहा है। और जिसके पास मोटर साइकिल है वो कार मांग रहा है।”

नितिन गडकरी के इस बयान पर राजनीति होनी ही थी। विपक्षी पार्टी कांग्रेस के नेता मीम अफजल ने एक चैनल से बात करते हुए कहा कि, “अच्छे दिन का नारा सिर्फ नारा नहीं था ये एक ख्वाब था जो मोदी जी ने देश की जनता को दिखाया था। अब इनकी सरकार आ गई है तो इन्हें लग रहा है कि अच्छे दिन आ गए हैं।” मीम अफ्जल ने कहा, ”मोदी जी चुनाव से पहले बड़ी बड़ी रैलियों में नारा लगवाते थे। अच्छे दिन जनता जवाब देती थी कि आएंगे। अब नितिन गडकरी जिस तरह का बयान दे रहे हैं ये देश की जनता का अपमान है।” इससे पहले साल 2015 में चुनाव के दौरान अच्छे दिन आएंगे ये नारा स्वयं तब के बीजेपी के प्रधानमंत्री पर के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने दिया था। तब बीजेपी ने इस नारे को केंद्र में रख कर कई विज्ञापन भी बनवाए थे। सरकार बनने के बाद से ही मोदी सरकार से अच्छे दिन आएंगे के वादे पर सवाल-जवाब किए जाने लगे। अब सरकार इस बयान से खुद को अलग करती नजर आ रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App