ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र पर गडकरी का बड़ा बयान- ‘सियासत और क्रिकेट में सब संभव, हारते-हारते मिल जाती है जीत’

Nitin Gadkari on Maharashtra govt formation: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि क्रिकेट और राजनीति में कभी भी कुछ भी हो सकता है। जब आपको लगता है कि हम मैच हार गए हैं, लेकिन अंत में नतीजे एकदम के उलट आ जाते हैं।

Author मुंबई | Updated: November 15, 2019 12:05 PM
केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा नेता नितिन गडकरी

Nitin Gadkari on Maharashtra govt formation: महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चल रहे सियासी घमासान के बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने क्रिकेट मैच का उदाहरण देते हुए इशारों में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि राजनीति और क्रिकेट में कुछ भी हो सकता है। आपको लगता है कि आप हारने वाले हो लेकिन रिजल्ट एकदम उलट आता है। ऐसे ही राजनीतिक किस्मत भी नाटकीय रूप से कभी भी बदल सकती है। बता दें कि हाल ही में शिवसेना-बीजेपी के बीच सीएम पद को लेकर हुए टकराव और सरकार गठन नहीं होने के बाद राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है।

क्या बोले केंद्रीय मंत्री: महाराष्ट्र सरकार के गठन पर नितिन गडकरी ने कहा, “क्रिकेट और राजनीति में कुछ भी हो सकता है। कभी-कभी आपको लगता है कि आप मैच हार रहे हैं, लेकिन परिणाम बिल्कुल उल्टा होता है। इसके अलावा, मैं अभी दिल्ली से आया हूं, मुझे महाराष्ट्र की विस्तृत राजनीति का पता नहीं है।” गौरतलब है कि बीजेपी और शिवसेना जिन्होंने एक साथ विधानसभा चुनाव लड़ा था मुख्यमंत्री पद के रोटेशन (ढाई-ढाई वर्ष) के समझौते पर सहमति नहीं बन सकी। जिसके चलते शिवसेना ने बीजेपी से अलग होने का ऐलान कर दिया।
Hindi News Today, 14 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

शिवसेना की एनसीपी-कांग्रेस से बात जारी: बता दें कि बीजेपी से अलग होने की बात कहते हुए अब शिवसेना ने एनसीपी-कांग्रेस संग मिलकर सरकार बनाने की बात कही है। फिलहाल तीनों ही दलों में सरकार गठन को लेकर बातचीत जारी है। शिवसेना अब भी बीजेपी पर लगातार हमले कर रही है, उसका कहना है कि बीजेपी ने 50-50 फॉर्मूले पर शिवसेना को धोखा दिया है।

 

क्या है राजनीतिक गणित: बता दें कि बीजेपी (105 सीट) के सरकार बनाने से इनकार करने पर शिवसेना (56 सीट) ने बहुमत के लिए जरूरी 145 विधायकों का समर्थन जुटाने की कोशिश शुरू कर दी है। बीजेपी और शिवसेना के बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने तीसरे सबसे बड़े दल एनसीपी (54 सीट) को संख्याबल बताने के लिए न्योता दिया था। लेकिन जब इन तीनों द्वारा संख्याबल साबित नहीं हुआ तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुस्लिम छात्र ने पराली जलाने का वीडियो किया सोशल तो दारोगा भड़का- रासुका लगा दूंगा, जेल में सड़ा दूंगा, बिना पूछे कैसे पोस्ट किया?
2 NCP के नवाब मलिक का बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र का अगला सीएम शिवसेना से ही होगा, यह अब हमारी जिम्मेदारी
3 Maharashtra Government Formation Live Updates: रेस में फिर लौटी BJP, नेता बोले- 119 MLA समर्थन में; कल मिलेंगे सोनिया गांधी-शरद पवार
जस्‍ट नाउ
X